बिहारराज्य

सरस्वती उर्फ शेरिन की मौत पर बिहार सरकार ने कहा, गोद लेने की प्रक्रिया में कोई गड़बड़ी नहीं, पिता को मिले कड़ी सजा

पटना: अमेरिका के टेक्सास शहर में जब से बिहार के नालन्दा के एक अनाथालय से गोद ली हुई बच्ची सरस्वती उर्फ शेरिन मैथ्यूज के मौत की खबर आयी हैं, तब से ही इस मामले की जांच में कई एजेंसियां जुटी हुई हैं.

लेकिन इस मामले के संबंध में बिहार सरकार ने साफ कहा है कि गोद लेने की प्रक्रिया में अभी तक कहीं भी गड़बड़ी नहीं पाई गई है. इस मामले पर विदेश मंत्रालय के मार्फत टेक्सास पुलिस और अन्य मंत्रालय ने रिपोर्ट मांगी थी.

वहीं, नालन्दा के जिला अधिकारी ने एक जांच दल का भी गठन किया है, जिसने साफ कहा है कि गोद लेने के समय सभी प्रक्रियाओं का पालन किया गया था और सब कुछ स्थानीय कोर्ट के आदेश से हुआ है. इस मामले में केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्रालय द्वारा एनओसी भी दिया गया था.

हालांकि, सरस्वती को जिस मदर टेरेसा अनाथ सेवा आश्रम से गोद लिया गया था, उसे पिछले महीने वित्तिय अनियमित्ता और अन्य खामियों के आधार पर बन्द करा दिया गया था.

यहां रह रहे बच्चों को बगल के नवादा के अनाथालय में भेज दिया गया. सरस्वती को पिछले साल जून महीने में वेसले और सिनी मैथ्यू नामक दम्पति ने गोद लिया था.

सरस्वती की मौत दूध ना मिलने के कारण हुई है, क्योंकि उसे घर से निकाल दिया गया था. फिलहाल, इस मामले की जांच टेक्सास पुलिस कर रही है और पुलिस ने वेस्ले को गिरफ्तार भी कर लिया है.

इस मामले में बिहार के उप मुख्य मंत्री सुशील मोदी ने शुक्रवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से बात कर विदेशी दम्पत्तियों के गोद लेने के नियम को और सख़्त करने का आग्रह किया है.

मोदी ने कहां कि वर्तमान नियम में विदेशियों द्वारा गोद लिये जाने वाले बच्चों की ट्रैकिंग नहीं हो पाती. मोदी ने सरस्वती की मौत को हत्या बताते हुए पिता को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने का भी आग्रह किया.

Summary
Review Date
Reviewed Item
शेरिन की मौत पर बिहार सरकार
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *