बाइक सवार बदमाशों ने व्यापार मंडल के अध्यक्ष की गोली मारकर की हत्या

घटना के बाद लखनऊ के पुलिस कमिश्नर स्वयं घटनास्थल पर पहुंचे और घटना का जायजा लिया

लखनऊ:उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रविवार देर शाम उस वक्त हड़कंप मच गया जब खबर फैली कि मोहनलालगंज इलाके के सबसे बड़े भट्टा मालिक और व्यापारी की बाइक सवार बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी है. घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस कमिश्नर के साथ क्राइम ब्रांच पहुंची. इलाके की संवेदनशीलता को देखते हुए एक कंपनी पीएसी को भी मोहनलालगंज में तैनात कर दिया गया. घटना के बाद लखनऊ के पुलिस कमिश्नर स्वयं घटनास्थल पर पहुंचे और घटना का जायजा लिया.

लखनऊ के पुलिस कमिश्नर ध्रुव कांत ठाकुर ने बताया कि ” शाम 5 बजे के बाद सुजीत पांडे अपने गौरा गांव में स्थित भट्टे पर जा रहे थे, सुजीत पांडे रोज सुबह और शाम दैनिक दिनचर्या के चलते भट्ठे पर जाते थे, आज भी वे अपनी गाड़ी से भट्ठे पर अकेले जा रहे थे और उनके साथ कोई नहीं था.अभी तक जो जानकारी मिली है या जो वहां पर प्रत्यक्षदर्शी थे उनकी मानें तो दो बाइक सवारों ने गोली मारकर सुजीत की हत्या कर दी.”

लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने आगे कहा कि पुलिसकर्मियों ने जो देखा है उसके अनुसार सुजीत पांडे को एक गोली लगी है, हालांकि अभी पोस्टमार्टम के बाद और भी चीजें खुलकर सामने आएंगी, लेकिन फिलहाल अभी शरीर में घाव का एक ही एग्जिट प्वाइंट और एक ही एंट्री प्वाइंट है.

मौके से 8 खोखे मिले हैं, लेकिन यह भी ज्ञात हुआ है कि इन पर तो हमला किया ही गया है लेकिन इनके द्वारा भी गोली चलाई गई है, क्योंकि इनके पास लाइसेंसी पिस्टल थी. जो खोखे मौके से मिले हैं वे अलग-अलग आकार के खोखे हैं. प्रथम दृष्टया ये मामला रंजिश का लग रहा है क्योंकि इनके साथ कोई लूटपाट नहीं की गई है.

घटना को देख कर लग रहा है कि कोई ऐसा आदमी था जो इनकी दैनिक दिनचर्या को जानता था. पहले रेकी की गई, फिर घटना को अंजाम दिया गया. हालांकि अभी तक सुजीत के परिवार द्वारा कोई भी तहरीर नहीं दी है. मैं परिवार वालों से बात करूंगा, जो भी सूचना मिलेगी.

उसी के आधार पर कार्रवाई की जाएगी. क्राइम ब्रांच की टीम भी इसमें लगाई गई है. हमारी कोशिश रहेगी कि जल्द से जल्द घटना का अनावरण करके इस घटना को अंजाम देने वाले बदमाशों की गिरफ्तारी की जाए.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button