छत्तीसगढ़: अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझी, पुलिस ने दो आरोपी को किया गिरफ्तार…

बिलासपुर. बिलासपुर के हिर्री पुलिस ने अंधे कत्ल की गुत्थी को समझाते हुए दो आरोपियों को मध्य प्रदेश के सतना और जबलपुर जिले से गिरफ्तार किया है.. 13 अप्रैल को प्रार्थी राम प्रसाद साहू ने थाना हिर्री में पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि.. उसका छोटा भाई सुरेश कुमार साहू को किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा धारदार हथियार से गले व चहरे में वार कर हत्या कर दिया है.. जिसकी रिपोर्ट पर अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया..

मामले में पुलिस आरोपियों की लगातार पतासाजी कर रही थी लेकिन आरोपियों का कोई पता नहीं चल रहा था जिसके बाद मृतक से सम्बंधित सभी व्यक्तियों के सम्बन्ध में पुलिस सभी के पृष्ठभूमि की पूरी जानकारी निकाल रही थी, इसी दौरान मृतक सुरेश साहू के जादू टोन व गड़े धन को तलाश करने में संलग्न रहने का पता चला.. मामले में पुलिस ने जादू टोना के एंगल से भी जानकारी जुटाने शुरू की इस दौरान पुलिस को पता चला कि सुभाष दास मानिकपुरी और माखन दास मृतक के साथी थे.. तब इनके सम्बन्ध में पतासाजी प्रारम्भ की गयी..

लेकिन कई वर्षो से इन दोनों के परिवार वालो से इनका सम्बन्ध ख़राब होने के कारण कोई भी वयक्ति इनके संपर्क में नहीं था, जिसके कारण इनके सम्बन्ध में कोई जानकारी नहीं मिल रही थी इसी दौरान जानकारी प्राप्त हुई कि घटना के कुछ दिन बाद माखन दास ने बताया था कि.. वह सुभाष के साथ जबलपुर में रह रहे है, इसी आधार पर आरोपियों की पतासाजी हेतु टीम रवाना की गयी जो जबलपुर जाकर पतासाजी करने पर सतना में मेडिकल कालेज में काम करने की जानकारी मिली.. जहाँ गहन छानबीन करने के बाद बामुश्किल आरोपी माखन दास को हिरासत में लिया गया..

जिसने सुभाष को जबलपुर में गार्ड की नौकरी करना बताया जिसकी निशानदेही पर आरोपी सुभाष को भी पकड़ा गया.. जिनसे घटना के सम्बन्ध में कड़ाई से पूछताछ करने पर अपना जुर्म कबूला और गड़े धन व हंडा के लालच में आकर मृतक सुरेश साहू की बलि देना स्वीकार किये.. आरोपियों से विस्तृत रूप से पूछताछ करने पर बताया कि.. आरोपी सुभाष वर्ष 2012 से गड़े धन की तलाश कर रहा है व जादू टोना का काम कर रहा है जिसकी पहचान गड़े धन खोजने के चक्क्कर में माखन दास से हुई जो सुभाष को नए नए लोग से मिलवाता था जिनको कोई पारिवारिक समस्या रहती थी जिसे सुभाष जादू टोने से ठीक करने का दावा कर पैसे वसूल लेता था इसी दौरान माखन ने अपने पूर्व परिचित अपने गाँव के सुरेश साहू का भी परिचय सुभाष से कराया सुरेश भी कई वर्षो से गड़े धन की तलाश कर रहा था जिससे इनके बिच घनिष्टता बढ़ गयी..

ये सभी यू ट्यूब से जादू टोने के नए नए विडियो देखते व उसपर अलग अलग जगहों पर प्रयोग करते थे.. इसी बीच सुभाष और माखन ने सुरेश की बलि देकर गड़े खजाने को खोज निकालने का प्लान बनाया, जिसके लिए नवरात्रि के पहले की अमावस्या का दिन तय किया और उसी दिन मुरु पथराली खार क्षेत्र में तंत्र मन्त्र कर कुल्हाड़ी से सुरेश की हत्या कर दी और पकडे जाने के भय से फरार हो गये..

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button