बिलासपुर: मांग पूरी नहीं हुई तो खिलाड़ी सीसीएफ कार्यालय के सामने अनशन पर बैठेगा

ब्युरो चीफ : विपुल मिश्रा संवाददाता : राधिका पाखी

बिलासपुर. वनमंडल में पदस्थ वाहन चालक व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी राजकुमार पांडेय ने मांग पूूरी नहीं होने पर आमरण अनशन पर बैठेंगे। आश्वासन का एक दिन गुजर गया है। अब दो दिन ही शेष है। हालांकि अभी तक समस्या का निराकरण नहीं हुआ है। इसलिए उन्होंने विरोध की तैयारी शुरू कर दी है। अनशन के दौरान सारे मेडल व मोमेंटो में रखेंगे।

राजकुमार पांडेय वाहन चालक के साथ- साथ वेटलिफ्टिंग के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी भी है। मुख्यालय में रहकर वन मंडल कार्यालय परिसर स्थित जिम में अभ्यास भी करते हैं। पर पिछले दिनों उनका तबादला बेलगहना कर दिया गया है। इससे पहले दो बार और स्थानांतरण आदेश जारी हुआ है। उन्होंने वनमंडलाधिकारी कुमार निशांत पर बार- बार तबादला कर परेशान करने का आरोप लगाया है।

हालांकि उन्होंने तबादले से अभ्यास प्रभावित होने की जानकारी देते हुए यथावत स्थान (वनमंडल उड़नदस्ता) में पदस्थ रखने की मांग की। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और बार- बार तबादले का आदेश जारी करते रहे। इसी के विरोध में राजकुमार पांडेय सड़क पर उतर आए हैं। विभाग को जब खिलाड़ियों से कोई मतलब नहीं है तो अब तक मिले मेडल व मोमेंटो किसी का काम नहीं है। इसी सोच के साथ उन्होंने संघ के पदाधिकारियों के साथ मेडल व मोमेंटो लौटाने सोमवार को बिलासपुर वन वृत्त कार्यालय पहुंचे।

वह मुख्य वन संरक्षक नावेद शुजाउद्दीन को इसे लौटाने पहुंचे थे। जिस पर मुख्य वन संरक्षक ने समस्या के निराकरण करने के लिए तीन दिन का आश्वासन दिया। जिस पर वे लौट तो गए। पर अब उनका कहना है कि समस्या का निराकरण नहीं हुआ तो खुलकर विरोध करेंगे। इस दौरान सीसीएफ कार्यालय के सामने आमरण अनशन पर बैठेंगे। इस दौरान यदि उन्हें कुछ होता है तो इसके लिए विभाग और अधिकारी जिम्मेदार होंगे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button