बिलासपुर लोकसभा की लड़ाई अब भूपेश बनाम अमर

- भरत मंगवानी

बिलासपुर: बिलासपुर लोकसभा की लड़ाई अब सम्मान की लड़ाई बन कर रह गयी है। बिलासपुर लोकसभा छत्तीसगढ़ की हाई प्रोफाइल सीट बन गयी है, भाजपा की तरफ से अरुण साव प्रत्याशी बनाये गए तो कांग्रेस ने अटल श्रीवास्तव पर विश्वास जताया पर समय के साथ-साथ ये लड़ाई प्रत्याशियों की लड़ाई ना होकर छत्तीसगढ़ के 2 दिग्गज नेताओं की सम्मान की लड़ाई बन गयी है। जहां एक तरफ अरुण साव को जिताने की जिम्मेदारी पूर्व मंत्री दिग्गज भाजपा नेता अमर अग्रवाल को दी गयी है तो दूसरी तरफ अटल श्रीवास्तव के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूरी ताकत लगा दी है।

अमर अग्रवाल चुनावी मैनेजमेंट के महारथी माने जाते है तो दूसरी और भूपेश बघेल के पास वर्तमान में सत्ता की चाबी है, किसान कर्ज माफी और बिजली बिल हाफ का कांग्रेस कितना भुना पाएगी ये तो आने वाला वक़्त बताएगा पर एक बात है बिलासपुर लोकसभा के नतीजे छत्तीसगढ़ की भविष्य की राजनीतिक दिशा और दशा तय करेंगे, कांग्रेस बिलासपुर लोकसभा का 23 वर्षो का सूखा खत्म कर पाने में सफल होगी कि नही इसका सबको इन्तेजार है।

Back to top button