बिलासपुर : ईद उल जुहा पर घरों में रहकर नमाज अदा करें

कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए मनाया जाए पर्व शांति समिति द्वारा की गई अपील

बिलासपुर 20 जुलाई 2021 : कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु मुस्लिम धर्मावलंबी अपने-अपने घर पर ही रहकर नमाज अदा करें। मस्जिदों के प्रवेश द्वार पर सेनेटाईजर एवं थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की जाए एवं नमाज के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाए। परिसर में एक साथ भीड़ इकट्ठा न हो और कोरोना संक्रमण के लिए शासन द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करते हुए सद्भावना पूर्वक यह पर्व मनाया जाए। जिला स्तरीय शांति समिति द्वारा यह अपील की गई है।

अतिरिक्त जिला दंडधिकारी, बिलासपुर बी.एस. उइके की अध्यक्षता में कलेक्टोरेट परिसर स्थित मंथन सभाकक्ष में ईद-उल-जुहा (बकरीद) का पर्व शांति पूर्वक एवं सुरक्षित रूप से मनाये जाने के संबंध में बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिला एवं पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारीगण, शांति समिति के माननीय सदस्यगण एवं मुस्लिम समाज के गणमान्य नागरिकगण सम्मिलत हुए।

उक्त बैठक में उपस्थित समाज के प्रमुखो द्वारा एकमत से सहमति व्यक्त की गई कि नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण के नियंत्रण एवं रोकथाम को दृष्टिगत रखते हुए केन्द्र शासन एवं राज्य शासन द्वारा जारी एस.ओ.पी. को पालन अपरिहार्य हो गया है।

कोविड-19 प्रशासन

केन्द्र शासन एवं राज्य शासन एवं जिला प्रशासन द्वारा कोविड-19 प्रशासन द्वारा बिलासपुर जिले में पूजा स्थल एवं धार्मिक स्थल संचालन हेतु विभिन्न शर्तो के अधीन प्रदान की गई अनुमति का भी पूर्व रूपेण पालन किया जाना आवश्यक होगा। इस दौरान पुलिस विभाग को समस्त चौक-चौराहों धार्मिक स्थलों एवं महत्वपूर्ण स्थानों पर पर्याप्त संध्या में पुलिस बल तैनात करने, यातायात की सुचारू व्यवस्था करने, नगर पालिक निगम को शहर के प्रमुख मार्गो, महत्वपूर्ण स्थलों पर साफ-सफाई, पेयजल एवं प्रकाश व्यवस्था करने तथा फायर ब्रिगेड आदि की व्यव्स्था करने के निर्देश दिये गये।

सिम्स एवं जिला अस्पताल को आपातकालीन स्थ्तिियोंसे निपटने हेतु एम्बुलेंस एवं आपातकालीन चिकित्सा हेतु चिकित्सकों एवं अन्य सहयोग कर्मचारी तैनात करने के निर्देश दिये। छ.ग. राज्य विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड को उक्त पर्व के दौरान निरंतर विद्युत आपूर्ति बनाये रखने के निर्देश दिये गये है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button