छत्तीसगढ़

बिलासपुर रेलवे ने दीवार तोडकर बनाया पार्सल के लिए वैकल्पिक रास्ता

रेलवे ने इस समस्या का दीवार तोड़कर हल ढूंढा है।

ब्यूरो चीफ : विपुल मिश्रा
बिलासपुर : जोनल स्टेशन स्थित पार्सल कार्यालय में अब पासल लाने और ले जाने में तकलीफ नहीं होगी। रेलवे ने इस समस्या का दीवार तोड़कर हल ढूंढा है। इससे रैंप के सहारे सीधे आवक कार्यालय तक पार्सल पहुंच जाएगा। पहले संकरा रास्ता होने के कारण ठेले समेत पार्सल पलट जाता था। इसके कारण दुर्घटना की आशंका भी बनी हुई थी।

स्टेशन के प्लेटफार्म आठ से लगा हुआ रेलवे का पार्सल कार्यालय है। यहां दो शाखा है। एक जावक और दूसरा आवक। पहले इसके लिए एक रैंप था। जिसके सहारे सीधे- सीधे पार्सल दोनों शाखा में पहुंच जाता था, लेकिन जब से कार्यालय से सटाकर फुट ओवरब्रिज, लिफ्ट व चलित सीढ़ी का निर्माण शुरू हुआ है। रैंप का रास्ता बंद हो गया। एक छोटे रैंप से पार्सल को लाना और यहां से ट्रेन तक पहुंचना पड़ रहा था।

इंजीनियरिंग व कमर्शियल विभाग

ढाल की वजह से और आगे संकरा रास्ता होने के कारण अक्सर ठेले समेत पार्सल गिर जाता था। इसके चलते नुकसान भी हो रहा था। पार्सल विभाग ने इस समस्या से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया और उन्हें वैकल्पिक व्यवस्था करने की मांग की। इस पर इंजीनियरिंग व कमर्शियल विभाग को सर्वे कर नई व्यवस्था बनाने के लिए कहा गया था।

सर्वे के दौरान यह विकल्प ढूंढा गया कि यदि आवक शावक कार्यालय की दीवार तोड़ दिया जाता है तो रैंप से सीधे पार्सल कार्यालय के अंदर आ जाएगा। इससे किसी को परेशानी भी नहीं होगी। इस पर सभी की सहमति बनी और दीवार को तोड़ दिया गया है। हालांकि काम अभी चालू है। पर इस एक दीवार को तोड़ने से काफी हद तक परेशानी दूर हो गई है। हालांकि जावक शाखा में पार्सल पहंुचाने थोड़ी दिक्कत अभी भी हो रही है, लेकिन पहले से राहत है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button