छत्तीसगढ़

कचरे से तैयार होगा बायोफ्यूल…

रायपुर : राज्य सरकार के उपक्रम छत्तीसगढ़ बायोफ्यूल विकास प्राधिकरण (सीबीडीए) द्वारा आज यहां नया रायपुर स्थित योजना भवन में एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई। इसमें कृषि, वानिकी और मानव निर्मित कचरे (अपशिष्ट) से जैविर्क इंधन और जैविक खाद उत्पादन के बारे में विभिन्न पहलुओं पर विशेषज्ञों ने विस्तृत विचार-विमर्श किया। यह कार्यशाला पेट्रोलियम कम्पनियों के सहयोग से आयोजित की गई। वक्ताओं का कहना था कि कचरे से जैविक ईंधन और खाद बनाने के कार्यों में हजारों की संख्या में लोगों को रोजगार मिल सकता है।

कार्यशाला में छत्तीसगढ़ सरकार के ऊर्जा सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी, छत्तीसगढ़ बायोफ्यूल विकास प्राधिकरण के कार्यपालिक निदेशक अंकित आनंद, इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड के मुख्य महाप्रबंधक एस.के. श्रीवास्तव और शान्तनु गुप्ता, रसायन टेक्नॉलाजी संस्थान मुम्बई के प्रोफेसर डॉ. मयूर साठे, भारत पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड के उप महाप्रबंधक ए.पी. वर्मा सहित अन्य संबंधित अधिकारी और विशेषज्ञ उपस्थित थे।

कार्यशाला में छत्तीसगढ़ बायोफ्यूल विकास प्राधिकरण के कार्यपालिक निदेशक अंकित आनंद ने राज्य में रतनजोत से बायोफ्यूल बनाने की परियोजना की विस्तृत जानकारी दी। इंडियन ऑयल कार्पोरेशन के सीजीएम एस.के. श्रीवास्तव ने बायो ऊर्जा के महत्व के बारे में बताया। केन्द्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के बायोफ्यूल कार्यसमूह के अध्यक्ष रामकृष्ण वाय बी ने देश में कचरे से बायो ईंधन बनाने की संभावनाओं पर विशेष रूप से प्रकाश डाला। हैदराबाद से आए स्पेक्ट्रम अक्षय ऊर्जा प्राईवेट लिमिटेड के चेयरमेन ए.बी.मोहन राव, रिलायंस इण्डस्ट्रीज के रमेश भुजाड़े और अन्य कई विशेषज्ञों ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

इस मौके पर केन्द्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय की ओर से बायो ऊर्जा पर दस मिनट की एक फिल्म का भी प्रदर्शन किया गया। केन्द्रीय वर्किंग बायोफ्यूल ग्रुप के अध्यक्ष रामकृष्ण वाय. बी. ने कार्यशाला में प्रतिनिधियों के विभिन्न प्रश्नों के उत्तर दिए। छत्तीसगढ़ बायोफ्यूल विकास प्राधिकरण के परियोजना अधिकारी सुमित सरकार ने बताया कि कार्यशाला में शामिल होने आए प्रतिनिधियों को कल दुर्ग जिले में ग्राम ठेंगाभाठ और गोढ़ी में राज्य के प्रस्तावित बायोफ्यूल काम्पलेक्स का भ्रमण कराया गया। सरकार ने छत्तीसगढ़ में बायोफ्यूल उत्पादन के लिए किये जा रहे कार्यो के बारे में विस्तार से बताया। भारत पेट्रोलियम कार्पोरेशन के डी.जी.एम. ए.पी. वर्मा ने कार्यशाला में उपस्थित प्रतिनिधियों का धन्यवाद ज्ञापित किया।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.