मनोरंजन

जन्मदिन विशेषः अपने दौर के सबसे महंगे गायकों में से एक हुआ करते थे किशोर

किशोर दा ने लगभग 1500 से ज्यादा गानों को अपनी आवाज़ दी

मुंबई: भारतीय पार्श्व गायक, अभिनेता, संगीत निर्देशक, गीतकार, लेखक, निर्देशक, निर्माता और पटकथा लेखक किशोर कुमार का आज जन्मदिन है. किशोर कुमार का असली नाम अभास कुमार गांगुली है, जिन्हें उनके मंच के नाम से बेहतर जाना जाता है.

किशोर, अपने दौर के सबसे महंगे गायकों में से एक हुआ करते थे. कहा तो यह भी जाता है कि कई बॉलीवुड स्टार्स केवल उनके गाए गाने की वजह से सुपरस्टार बन कर उभरे थे. अपने फिल्मी करियर में किशोर दा ने लगभग 1500 से ज्यादा गानों को अपनी आवाज़ दी. आज भी उनके गाने लोगों के दिलों पर राज करते हैं. मध्य प्रदेश के खंडवा में 4 अगस्त को जन्मे आभाष कुमार गांगुली यानी कि किशोर दा का हर गाना अपने आप में उन्हीं की तरह नायाब रहा.

गायकी में महान कहे जाने वाले किशोर की आवाज़ बचपन से ही इतनी बेहतरीन नहीं थी. किशोर के भाई अशोक कुमार ने एक इंटरव्यू में खुद ये बात कही थी कि बचपन में किशोर की आवाज़ काफी ख़राब थी. उनका गला काफी बैठा हुआ था. बताते हैं कि उस दौरान अगर कोई भी उनकी आवाज़ सुनता तो ये नहीं कहता कि ये बच्चा आगे चलकर सिनेमा की दुनिया में अपनी आवाज़ को लेकर याद किया जाएगा

किशोर कुमार से जुड़े किस्सों में एक ये किस्सा भी शामिल है कि एक बार जब छोटे आभाष यानी कि किशोर अपनी मां के पास किचन में जब भागकर पहुंचे तो वहां रखी दराती पर उनका पैर पड़ गया जिसकी वजह से उनके पैर की एक उंगली बुरी तरह कट गई. जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया

हां डॉक्टर ने उनकी मरहम पट्टी तो कर दी, लेकिन किशोर को चोट की वजह से काफी दर्द रहा. दर्द के चलते किशोर काफी रोते रहते थे. बताते हैं कि किशोर तकरीबन 20 दिन तक काफी ज्यादा रोये और उनके बेहद रोने की वजह से उनके गले में बदलाव आ गया. उनकी आवाज़ में एक अलग ही खनक आ गई. इसे ऐसे समझ लीजिये कि बेइन्तेहां रोने से उनका रियाज़ हो गया. ऐसे में किशोर कुमार पर मशहूर शायर मिर्ज़ा ग़ालिब का एक शे’र कैसा मौज़ूं हुआ, देखिए…
रोने से और इश्क़ में बेबाक हो गए
धोए गए हम इतने, कि बस पाक हो गए
किशोर कुमार के ऐसे ही कई किस्सों में एक किस्सा ये भी काफी मशहूर है कि वो अपने पैसे कभी नहीं छोड़ते थे. किशोर फिल्म तब ही साइन करते थे जब उन्हें उनके नाम का चेक मिल जाता था. अब ऐसे में भले ही एडवांस में उन्हें फिल्ममेकर एक रुपया दे, लेकिन उन्हें पैसे चाहिए ही होते थे. बताते हैं कि फिल्म ‘प्यार किए जा’ में जब महमूद को किशोर कुमार से ज्यादा पैसे मिले, तो इसका बदला उन्होंने फिल्म ‘पड़ोसन’ में उनसे दोगुने पैसे लेकर लिया.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button