Birthday Special : विराट व्यक्तित्व ने बनाई लोगों के दिल में अनोखा छवि

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का आज जन्मदिन

नई दिल्ली: आज क्रिसमस के दिन भारत के विराट प्रतिभा के धनी और एक विराट व्यक्तित्व वाले व्यक्ति पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का 94 वां वर्षगाँठ है। आज वह हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनके विराट व्यक्तित्व ने हर किसी के दिल में अपनी एक अलग छाप बनाई है।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन इसी साल 16 अगस्त को हुआ था. वे 93 साल के थे. अटलजी तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे. उनके सम्मान में कई जगहों के नाम बदले गए हैं.

अटलजी के साथ छाया की तरह रहने वाले शिव कुमार पारीक उनकी अंतिम सांस तक सेवा में जुटे रहे। जयपुर के श्याम नगर निवासी शिव कुमार साल 1969 से उनका हाथ थामे हुए थे। कई सालों तक वाजपेयी के निजी सचिव भी रहे।

हिमालय की चार चोटियों के नाम भी उनके नाम पर रखे गए. छत्तीसगढ़ के नए रायपुर का नाम अटल नगर रखा गया.इसके अलावा उत्तराखंड सरकार ने देहरादून एयरपोर्ट का नाम बदलकर अटलजी के नाम पर रखा. उत्तरप्रदेश सरकार ने भी लखनऊ में हजरतगंज चौराहे का नाम बदलकर अटल चौक रखने का फैसला किया.

राजनीति की चादर रही उजली

अटलजी की राजनीति की चादर हमेशा उजली रही। शिव कुमारजी बताते हैं कि अटलजी ने जब इस्तीफा दिया था, तब बिकने वाले भी बहुत थे और खरीदार भी। अटलजी जोड़-तोड़ में विश्वास नहीं करते थे। इसलिए उन्होंने इस्तीफा दिया।

साहित्य और प्रकृति से लगाव

शिव कुमार जी कहते हैं कि साहित्य और प्रकृति से अटलजी का लगाव हमेशा रहा। अटलजी का कवित्व उनके बाबाजी की देन है। पिताजी भी अच्छे कवि थे।

अटल जी न तो स्वस्थ हैं और न अस्वस्थ, वह बुजुर्ग अवस्था में हैं

शिव कुमार जी बताते हैं कि जब तक उनके हाथ में कलम टिकी, तब तक अपने हर जन्मदिन पर कविता जरूर लिखी। जिनकी जिह्वा पर सरस्वती विराजमान थीं, वह आज मौन हैं। अटलजी तो न स्वस्थ हैं और न ही अस्वस्थ, वह बुजुर्ग अवस्था में हैं। मैं भी 80 साल का हूं।

advt
Back to top button