छत्तीसगढ़

आरंग में भाजपा-कांग्रेस के आगे गठबंधन की चुनौती

रायपुर।

छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित आरंग विधानसभा सीट भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशी बारी-बारी से चुनकर विधायक बनते रहे हैं। वर्तमान में यहां से भाजपा के नवीन मारकण्डे विधायक चुने गए हैं।

साल 2003 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने संजय ढीढी को अपना उम्मीदवार बनाया था वहीं कांग्रेस की ओर से गंगूराम बघेल मैदान में थे। भाजपा के संजय ढीढी ने सीधे मुकाबले में कांग्रेस के गंगूराम बघेल को 18444 मतों से हराया। भाजपा के संजय ढीढी को 48556 मत मिले वहीं कांग्रेस के गंगूराम बघेल को 30112 मतों से संतोष करना पड़ा। बसपा की कुंती कुर्रे 8.02 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 7757 मत प्राप्त कर तीसरे स्थान पर रही।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपने पुराने चेहरे संजय ढीढी को दोबारा मैदान में उतारा वहीं कांग्र्रेस ने अपना उम्मीदवार बदलते हुए गुरु रूद्र कुमार को अपना प्रत्याशी बनाया था। इस कांगे्रस के बागी उम्मीदवार के रूप में गंगूराम बघेल भी मैदान में थे।

जिसमें कांग्रेस के गुरु रूद्र कुमार ने बहुकोणीय मुकाबले में भाजपा के संजय ढीढी को हराया। कांग्रेस के गुरु रूद्र कुमार को 34644 मत मिले वहीं भाजपा के संजय ढीढी को 33318 मतों से संतोष करना पड़ा। कांग्रेस के बागी उम्मीदवार गंगूराम बघेल 29089 मत पाकर तीसरे स्थान पर रहे। बहुजन समाज पार्टी के सदानंद मारकंडे 5.77 प्रतिशत
वोट शेयर के साथ 6291 मत प्राप्त कर तीसरे स्थान पर रहे।

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपना उम्मीदवार बदलते हुए नवीन मारकंडे को मैदान में उतारा। इस बार भाजपा की चाल कामयाब रही और कांग्रेस के गुरु रूद्र कुमार को हार का सामना करना पड़ा। भाजपा के नवीन मारकंडे ने बहुकोणीय मुकाबले में कांग्रेस के गुरु रूद्र कुमार को 13774 मतों से हराया।

छत्तीसगढ़ समाज पार्टी के उम्मीदवार गंगूराम बघेल 13004 मत पाकर तीसरे स्थान पर रहे। बहुजन समाज पार्टी के केडी टंडन 2.65 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 3639 मत पाकर पांचवें स्थान पर रहे।

कयास लगाए जा रहे हैं कि आने वाले चुनाव भाजपा अपने चेहरे नवीन मारकंडे को दोबारा मैदान में उतार सकती है वहीं कांग्रेस ने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं।

इसबार आम आदमी पार्टी और जोगी-बसपा गठबंधन ने भी अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। इस चुनाव भाजपा के सामने अपनी जीत बचाने की चुनौती होगी तो कांग्रेस अपना पुराना बदला चुकता करने की फिराक में है। ऐसे हालात में आरंग विधानसभा सीट पर बहुकोणीय मुकाबले के आसार हैं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
आरंग में भाजपा-कांग्रेस के आगे गठबंधन की चुनौती
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags