भाजपा- कांग्रेस के सांसदों की दिल्ली में मुलाकात

विदाई के पूर्व मुलाकात में पुराने दिनों को याद किया

रायपुर।

भाजपा व कांग्रेस के सांसद कल नई दिल्ली में जुटे। सांसदों ने संसद के अंतिम सत्र को देखते हुए सौजन्य मुलाकात व विदाई के बहाने एकजुट हुए। रामविचार नेताम के आवास पर भाजपा और कांगे्रस के 12 सांसदों ने अपने पुराने दिनों को याद किया चर्चा के दौरान आगामी चुनाव में टिकट मिलने और नहीं मिलने को लेकर भी चर्चा की गई।

भाजपा की नौ लोकसभा सांसद भी इसमें पहुंचे थे। नए पुराने अनुभव साझा करते हुए उपस्थित सांसदों ने पार्टी स्तर पर चल रहीं गतिविधियों पर भी चर्चा किया। भाजपा सांसद रमेश बैस ने कहा कि इस बार टिकट मिलेगा की नहीं यह पार्टी वाले ही जाने ।

टिकिट मिलेगी तो चुनाव लडूंगा, नहीं मिलेगी तो किसी नए को मिलेगा। इस दौरान छग की तीन सांसद नहीं पहुंच पाए। इनमें अभिषेक सिंह, रणविजय सिंह जूदेव और मोतीलाल वोरा शामिल है। बताया गया कि अभिषेक सिंह रायपुर में थे वहीं श्री जूदेव राजस्थान दौरे पर थे। मोतीलाल वोरा कांग्रेस की बैठकों में व्यस्त थे।
इस बैठक में भूपेश सरकार के कामकाज को लेकर भी चर्चा हुई और सदस्यों की राय थी कि मंत्रिमंडल अच्छा बना है, काम अच्छे से करे, सरकार किसानों को लेकर अच्छी घोषणा की है।

कुछ सांसदों ने कहानी किस्सा भी सुनाया और भूपेश बघेल के निमंत्रण पर सांसदों के नहीं जूट पाने पर भी चर्चा हुई। कुछ सांसदों ने कहा सरकार अच्छी बनी है, छत्तीसगढ़ की झलक और महक है बदले की भावना और गैर जरूरी काम न करे तो सरकार को कहीं कोई दिक्कत नही होगी।

छाया वर्मा, सरोज पाण्डेय, कमला देवी पाटले, रमेश बैस, विक्रम उसेंडी, लखनलाल साहू, दिनेश कश्यप, विष्णू देव साय, कमलभान सिंह, रामविचार नेताम, चंदूलाल साहू मौजूद थे। इस आयोजन को लेकर बंशीलाल महतो, रमेश बैस के बीच चर्चा के उपरांत रामविचार नेताम की ही पहल पर उनके घर में यह आयोजन संम्पन्प हुआ। अधिकांश सांसदो ने इसे अंतिम सत्र के पहले समान्य एवं सौजन्य मुलाकात करा दिया है। रामविचार नेताम ने भी इसे सौजन्य मुलाकात बताया है।

Back to top button