पेट्रोलियम पदार्थो पर टैक्स कम करे भाजपा सरकार : कांग्रेस

रायपुर : वित्त मंत्री अरुण जेटली की ओर से पेट्रोल डीजल पर टैक्स राज्य सरकारों को कम करने की सलाह दी है। इस पर कांग्रेस ने रमन सरकार को तुरन्त अमल करने की मांग की है। प्रदेश कांग्रेस के मीडिया सचिव सुशील आनंद शुक्ला ने गुरुवार को कहा कि राज्य की भाजपा सरकार अपने केंद्रीय वित्त मंत्री की सलाह पर अमल करते हुए तत्काल पेट्रोल-डीजल पर लिए जा रहे बेतहाशा करों को कम करे। यदि भाजपा सरकार पेट्रोल-डीजल पर टैक्स कम कर देती है तो राज्य की जनता पर महंगाई का बोझ कम होगा। वर्तमान में पेट्रोलियम पदार्थो पर सर्वाधिक टैक्स लेने वालों राज्यों में से छत्तीसगढ़ एक है। यहां पर भाजपा सरकार पेट्रोलियम पदार्थो में 25 प्रतिशत टैक्स ले रही है। साथ ही डीजल और पेट्रोल पर 25 प्रतिशत टैक्स के साथ 1 और 2 रुपए सरचार्ज भी लिया जाता है। छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार एक ओर मोटर साइकिल चालकों, ट्रैक्टर के डीजल, पेट्रोल पर ज्यादा टैक्स लेती है दूसरी ओर हवाई जहाज के इंधन एवियेशन फ्यूल पर मात्र 4 प्रतिशत टैक्स लेती है। देश की कोई भी राज्य सरकार अपने नागरिकों से दोहरा करारोपण नहीं करती है, यह अनैतिक कदम देश में सिर्फ छत्तीसगढ़ में है। कांग्रेस मांग करती है कि नागरिकों को राहत पहुंचाने पेट्रोलियम पदार्थों पर लगने वाले टैक्स को समाप्त करे। यदि भाजपा सरकार टैक्स माफ कर देती है तो पेट्रोल के आज के दाम में लगभग 20 रुपए और डीजल में 15 रुपए तक कमी आ सकती है। अंतराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल के भाव कम होने के बावजूद केंद्र सरकार अनुपातिक रूप से भाव कम नहीं कर रही है। ऊपर से राज्य सरकार का टैक्स जनता के लिए बोझ बन गया है।

advt
Back to top button