धान के मुद्दे पर भाजपा छत्तीसगढ़ के किसानों को गुमराह कर रही है: शैलेश नितिन त्रिवेदी

धान का 300 रू. बोनस 5 साल देने का संकल्प तो भाजपा ने नहीं निभाया और किसानों से धोखाधड़ी की

रायपुर: धान के बोनस पर भाजपा के द्वारा की जा रही राजनीति पर प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि धान के मुद्दे पर भाजपा छत्तीसगढ़ के किसानों को गुमराह कर रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनते ही 2500 रू. में धान खरीदना शुरु कर दिया और किसानों का कर्ज माफ कर दिया। कांग्रेस की सरकार के द्वारा अपने वादे के मुताबिक बिजली बिल हाफ, किसानों का कर्ज माफ और धान का खरीद मूल्य 2500 रू. किए जाने से राज्य में भाजपा का बचा खुचा जनाधार भी समाप्त हो गया।

भाजपा अब किसानों को बोनस की राशि दिये जाने की बात कर रही है। बोनस 300 रू. प्रति क्विंटल 5 वर्ष तक देने की बात भाजपा ने अपने 2013 के विधानसभा चुनाव संकल्प पत्र में कही थी, राज्यपाल ने अभिभाषण में विधानसभा के पटल में कही थी। भाजपा ने 2013 में कहा था कि 5 वर्षो तक बोनस देंगे और सिर्फ 3 वर्ष तक बोनस दिया। 2013 में बनी भाजपा सरकार ने 2 साल का बोनस ही नहीं दिया। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में इसी 2 साल के भाजपा सरकार द्वारा नहीं दिये गये बोनस को किसानों को किस्तों में देने की बात कही थी।

 

प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने पूछा है कि मोदी सरकार ने धान के लागत मूल्य पर 50 प्रतिशत अधिक दाम देने का वादा क्यों नहीं निभाया? अगर भाजपा वाकई में किसान हितेषी होती तो 2014 के लोकसभा चुनाव में स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशों को लागू करने का वादा निभाती। किसानों को धान के लागत मूल्य पर 50 प्रतिशत अधिक दाम देने का वादा नहीं निभाने का कारण नरेन्द्र मोदी किसानों को, प्रदेश और देश की जनता को बतायें? कांग्रेस की पंजाब, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान के नवनिर्वाचित राज्य सरकारों की तरह मोदी सरकार भी किसानों का कर्ज माफ करने का साहस दिखायें। किसानों को उनकी फसल की लागत मूल्य पर 50 प्रतिशत लाभ देने का साहस दिखाएं जैसा कि छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार भूपेश बघेल की सरकार कर रही है।

 

प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि धान का 300 रू. बोनस 5 साल देने का संकल्प तो भाजपा ने नहीं निभाया और किसानों से धोखाधड़ी की। भाजपा सरकार की तरह कांग्रेस की सरकार किसानों के साथ धोखाधड़ी नहीं करेगी और अपने हर वादे को राज्य की आर्थिक स्थिति के अनुसार बखूबी निभायेगी।

बेहतर होता कि भाजपा मोदी और रमन सिंह को धान उगाने वाले किसानों के साथ किये गये एक-एक दाना धान के खरीद के संकल्प को याद करते और उस संकल्प के बदले में उन्होंने किसानों के साथ क्या किया उसको भी याद करते। धान के मुद्दे पर भाजपा प्रदेश के किसानों को गुमराह करने में लगी है और अपनी असफलताओं को छिपाने के लिए असत्य बयानबाजी कर रही है।

Back to top button