25 हजार के विवाद में की थी BJP नेता की हत्या

मंदसौर।

मंदसौर नगर पालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की हत्या चुनाव के दौरान हुए 25 हजार रुपयों के लेनदेन को लेकर हुए विवाद के चलते की गई। ये खुलासा हत्यारे मनीष बैरागी ने किया। पुलिस ने आरोपित मनीष को राजस्थान के प्रतापगढ़ से गिरफ्तार किया। पुलिस ने उसके कब्जे से हत्या में प्रयुक्त पिस्टल और कुछ कारतूस भी बरामद किए।

मंदसौर पुलिस के मुताबिक मनीष बैरागी ने पूछताछ में बताया कि वह प्रहलाद बंधवार को काफी समय से जानता था और साल 2015 के चुनावों में उसने काफी काम भी किया। चुनावों के दौरान उसने 1.50 लाख रुपए गोलू नामक व्यक्ति को दिए थे।

इसमें से सवा लाख रुपए गोलू ने लौटा दिए थे, लेकिन शेष बचे 25 हजार रुपयों को लौटाने से बंधवार ने इंकार कर दिया। बैरागी के मुताबिक कई बार आग्रह करने पर भी बंधवार ने रुपए नहीं लौटाए। इससे बैरागी नाराज था। उसने बताया कि रुपयों की तंगी के कारण उसकी मां की मौत हो गई, लेकिन बंधवार ने रुपए नहीं दिए।

बैरागी के अनुसार बंधवार ने उसे मकान और दुकान का पट्टा देने का भरोसा दिया था। लेकिन बंधवार ने ऐसी किसी भरोसे को पूरा नहीं किया। इतना ही नहीं उसने बताया कि उसने बंधवार को जब भी कोई काम बोला बंधवार ने कोई काम नहीं किया। इससे बैरागी काफी नाराज था और उसने उनकी हत्या कर दी।

गौरतलब है कि नगर पालिका अध्यक्ष और भाजपा के कद्दावर नेता प्रहलाद बंधवार की गुरुवार शाम लगभग 7 बजे जिला सहकारी बैंक के सामने गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में पुलिस ने आरोपित मनीष को प्रतापगढ़ में जिला अस्पताल के बाहर घूमते हुए पकड़ा था।

पुलिस ने उसके पास से हत्या में प्रयुक्त 32 बोर की पिस्टल, 2 मैगजीन व 7 कारतूस बरामद किए। पूछताछ में बैरागी ने बताया कि हत्या के पहले उसने पिस्टल चलाने का अभ्यास भी किया था। हत्या वाले दिन वह शाम 6.30 बजे ही सहकारी बैंक के सामने स्थित एक दुकान पर पहुंच गया था और बंधवार का इंतजार करता रहा। उस समय बंधवार लोकेंद्र कुमावत की दुकान में बैठे थे।

बंधवार जैसे ही दुकान से बाहर निकले, आरोपित ने उनपर फायर कर दिया। उसने बताया कि गोली मारने के बाद उसकी मोटर साइकिल स्टार्ट नहीं हुई तो वह उसे वहीं छोड़कर भाग निकला।

बैरागी ने बताया कि घटना के बाद पैदल भागते हुए उसे पैर में चोट भी लगी। वह राजस्थान भागना चाहता था। पुलिस के मुताबिक वह गैंगस्टर बनकर अपराध की दुनिया में छा जाना चाहता था। हालांकि उसे बंधवार की हत्या के बाद एनकाउंटर का भी डर था, जिसके चलते वह राजस्थान भागा।

advt
Back to top button