BJP नेता करते थे 2000 के जाली नोट छापने का कारोबार, गिरफ्तार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बीजेपी सरकार 500 व 2000 रुपये के बैंक नोटों के सुरक्षा फीचर में हर 3-4 साल में बदलाव करने की सोच रही है, ताकि जाली नोटों की समस्या पर लगाम लगाई जा सके। सरकार ने नोटबंदी के बाद पिछले चार महीने में भारी मात्रा में जाली मुद्रा पकड़ने जाने के मद्देनजर यह फैसला किया है। सूत्रों के अनुसार इस मुद्दे पर एक बैठक में चर्चा हुई।

बैठक में केंद्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि सहित वित्त व गृह मंत्रालय के शीर्ष अधिकारी मौजूद थे। लेकिन सरकार यह सिर्फ लोगों के लिए कर रही है। जबकि मोदी सरकार के नेता जाली नोटों को छापने का कारोबार करने में लगे हुए हैं। सूत्रों की मानें तो यह कारोबार कई बीजेपी नेताओं की शह पर हो रहा था, जिसका पुलिस ने पर्दाफाश किया है।

केरल में भाजपा नेता छापता था नकली नोट
केरल में भाजपा नेता के घर से नकली नोट और नकली नोट छापने की मशीन बरामद हुई है। पुलिस ने केरल के लोकल भाजपा नेता के घर से नकली नोट और नोट छापने वाली मशीन बरामद की है। श्री नारायाणपुरम इलाके में पुलिस ने छापेमारी कर ये सारी चीजें बरामद की।

पुलिस ने भाजपा नेता राकेश और उसके भाई राजेश को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस उन दोनों ने इस मामले में पूछताछ कर रही है। शुरूआती जानकारी के मुताबिक पुलिस ने भाजपा नेता के घर से 1.35 लाख रुपए के नकली नोट बरामद किए है। पुलिस को ये रकम 20 रुपए, 50 रुपए, 500 रुपए और 2000 रुपए के नकली नोटों में मिले।

पुलिस को जानकारी मिली थी कि राजेश और राकेश नाम के नेता ने बहुत की कम समय में काफी संपत्ति बना ली है। उन्हें जानकारी मिली की ये लोग नकली नोटों के कारोबार में शामिल हो सकते है, जिसके बाद पुलिस ने छानबीन कर उसके घर में छापेमारी की और ऑपरेशन कुबेर को अंजाम दिया। पुलिस ने उनके घर से भारी मात्रा में नकली नोटों की गड्डियां बरामद की। अब उनसे इस बारे में पूछताछ की जा रही है।

Back to top button