मध्यप्रदेश

BJP विधायक का सुझाव, BPL कार्ड चाहिए तो घर में रखो गाय

‘गरीबी रेखा के नीचे वाले (बीपीएल) कार्डधारों को राशन और अन्य सुविधाएं सरकार की ओर से दी जाती है। क्या हम ऐसा कानून नहीं बना सकते जिससे बीपीएल कार्ड होल्डर को कम से कम एक गाय पालनी चाहिए? अगर वह गाय नहीं पालते हैं तो फिर उन्हें कोई भी सरकारी सुविधा नहीं दी जाएगी’, ये कहना है मध्यप्रदेश के भाजपा के विधायक मुरलीधर पाटीदार का।

मध्यप्रदेश विधानसभा में गैर-सरकारी प्रस्ताव के मुद्दे पर बहस के दौरान विधायक महोदय ने यह सुझाव सदन में रखा।</h4>

प्रस्ताव में खुलेआम घूम रही गायों के कारण किसानों को और खेती में हो रहे नुकसान पर चर्चा की जा रही थी।

सदन में यह मामला भाजपा विधायक शंकरलाल तिवारी द्वारा उठाया गया था। जिसमें उन्होंने कहा कि अब हमें वर्षों पुरानी आदत बदलने का समय आ गया है, जिसमें किसान अपनी गायों को चरने के लिए छोड़ देता है। हालांकि, बाद में चर्चा आवारा गायों के मुद्दे से भटक कर दूध, गोमूत्र और गोबर पर होने लगी।

पाटीदार ने कहा कि लोगों ने गायों के महत्व को भुला दिया है। अब लोगों को गायों में कोई फायदा नजर नहीं आ रहा इसलिए लोग गाय पालने से बच रहे हैं। बता दें कि जिस पाटीदार नेता ने यह मांग उठाई है उसके विधानसभा क्षेत्र में देश की सबसे बड़ी गायों की सेन्चुरी है।

उन्होंने कहा कि कई सारे मशेवियों के मालिक इस बारे में पता कर रहे हैं, जिससे मुझे डर लग रहा है। 24 घंटे में अगर 40,000-50,000 गाय छोड़ दी जाएंगी तो क्या होगा। बता दें कि यह सेन्चुरी 472 हेक्टेयर में फैली हुई है,दावा किया जाता है कि इसमें 5,000 गाय रहती हैं।

Tags

Back to top button