दिल्लीराजनीति

हिंसा के विरोध में 15 दिन की केरल में पद यात्रा करेगी बीजेपी

नई दिल्ली: भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने आज गंदगी, गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, जातिवाद, साम्प्रदायिकता और तुष्टीकरण की राजनीति को देश से समाप्त करने की, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘न्यू इंडिया’ की सोच के आधार पर साल 2019 के लोकसभा चुनाव में बड़ी जीत का खाका पेश किया और अगले पांच साल के लिए पार्टी की रणनीति सामने रखी.

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कार्यकारिणी बैठक के बारे में संवाददाताओं को जानकारी देते हुए बताया कि अमित शाह ने जोर दिया कि आजादी के 70 वर्ष गुजर जाने के बाद भी अभी भी हम समस्याओं से जूझ रहे हैं. प्रधानमंत्री ने न्यू इंडिया के दृष्टिकोण को देश के समक्ष रखा है और पार्टी कार्यकर्ता इस दृष्टिकोण को संकल्प के साथ आगे बढ़ाएं.

उन्होंने कहा कि अगले पांच साल के दौरान सभी कार्यकर्ता खुद को पार्टी के विस्तार और जनता के हितों के कार्य में लगायेंगे, साथ ही गंदगी, गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, जातिवाद, साम्प्रदायिकता और तुष्टीकरण की राजनीति को देश से समाप्त करने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘न्यू इंडिया’ संबंधी सोच पर प्रतिबद्धता के साथ अमल करेंगे.

बैठक के दौरान शाह ने पार्टी सांसदों, विधायकों, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों समेत अन्य नेताओं से केंद्र और प्रदेश सरकार के कार्यों को जनता तक पहुंचाने पर जोर दिया और वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के बारे में अपने विचार रखे.

हिंसा के खिलाफ बीजेपी

पीयूष गोयल के मुताबिक अमित शाह ने कहा कि केरल और बंगाल में जिस प्रकार से हिंसा की राजनीति चल रही है, उसकी हम घोर निंदा करते हैं. इस प्रकार की हिंसा से भाजपा का कोई कार्यकर्ता डरने वाला नहीं है. भाजपा का कार्यकर्ता शांति और लोकतंत्र में विश्वास करता है. भाजपा का कार्यकर्ता इस प्रकार की हिंसा का लोकतांत्रिक तरीके से जवाब देने और जनता के बीच इसे रखने में सक्षम है.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं के खिलाफ राजनीतिक हिंसा के विरोध में तीन अक्तूबर से 17 अक्तूबर तक केरल में 15 दिन की पदयात्रा आरंभ करने की घोषणा की.

Tags

Related Articles

Leave a Reply