छत्तीसगढ़बड़ी खबरराजनीतिराज्य

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष उसेंडी का राहुल-भूपेश पर तंज

प्रदेश के आदिवासी किसान धान बेचने भटक रहे और सरकार नाच-गाने में मशगूल: भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने बस्तर क्षेत्र के सुकमा, छिंदगढ़ ,कांकेर व देवभोग समेत अनेक स्थानों में किसानों का धान खरीदने में की जा रही आनाकानी की निंदा करते हुए आदिवासियों के हितों की रक्षा की डींगे हांकने वाली प्रदेश की कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को बस्तर के किसानों की पीड़ा महसूस नहीं हो रही है, जहां टोकन कटने के बाद भी किसानों का धान खरीदा नहीं जा रहा है और किसान कई-कई किलोमीटर का फासला तय करके आने के बाद धान नहीं बिकने पर वापस धान लेकर निराश लौट रहे हैं।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सेंडी ने पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रदेश सरकार की पीठ ठोकने को वास्तविकता से मुंह चुराना बताया है। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष गांधी ने प्रदेश के किसानों, महिलाओं, युवकों समेत सभी वर्गों के साथ प्रदेश सरकार के छलावों और वादाखिलाफी को नजरंदाज करने का काम किया है।

आखिर प्रदेश सरकार को किस बात की शाबाशी मिलनी चाहिए? जो मुख्यमंत्री अपने प्रदेश के आदिवासी किसानों तक को दर-दर भटकाकर धान खरीदने में आनाकानी कर रहे हैं, वे केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को वित्तीय प्रबंधन का ज्ञान बांटते हुए शोभा नहीं देते। पहले वे अपने प्रदेश के वित्तीय प्रबंधन को तो दुरुस्त करके किसानों का पूरा धान खरीदने की ईमानदारी दिखाएं। प्रदेश सरकार के नित-नए नियमों से किसानों को धान बेचने में बेहद मुश्किलों और जलालत का सामना करना पड़ रहा है।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष उसेंडी ने कहा कि प्रदेश सरकार धान खरीदी के मद्देनजर रोज नए निर्देश देकर नए मापदंड तय कर रही है और प्रशासनिक अधिकारी अपनी ओर से निश्चित मापदंडों पर धान खरीदी के निर्देश देते हुए इनका पालन नहीं होने पर समिति प्रबंधक, अध्यक्ष व डाटा कम्प्यूटर ऑपरेटर के खिलाफ एफआईआर की धमकी दे रहे हैं।

श्री उसेंडी ने प्रदेश सरकार के धान खरीदी मामले में दोहरे राजनीतिक चरित्र की निंदा की। यह स्थिति बेहद शर्मनाक है कि वादे के बावजूद प्रदेश सरकार किसानों का धान खरीदने में आनाकानी कर रही है और परेशान किसानों को अपनी उपज की बिक्री के लिए चक्काजाम जैसे आंदोलनों का सहारा लेना पड़ रहा है। छिन्दगढ़ में लैम्प्स सोसाइटी द्वारा किसानों को उपलब्ध बीज से उत्पादित धान की खरीदी नहीं किए जाने पर भी उन्होंने ऐतराज जताया।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष उसेंडी ने कहा कि पूरे प्रदेश में किसान अपना धान बेचने को लेकर परेशान और चिंतित हैं और प्रदेश सरकार ‘परिवार-वंदना’ में मशगूल होकर देश-विदेश से लोगों बुलाकर आदिवासी नृत्य आयोजित कर सच्चाई से आदिवासी समाज का ध्यान भटका रही है। प्रदेश के मुख्यमंत्री समेत पूरी सरकार और कांग्रेस के नेता किसानों की पीड़ा महसूस करने के बजाय नाच-गाने में व्यस्त  हैं और खुद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंच पर नृत्य करके आदिवासी किसानों की पीड़ा का मखौल उड़ाने का काम किया है।

Tags
Back to top button