आज 5 राज्यों में जीत का मंत्र तलाशेगी बीजेपी

नई दिल्ली: बीजेपी अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अगले चार महीने में होने वाले पांच राज्य विधानसभा चुनावों के लिए अपने एक्शन प्लान को फाइनल करेगी।

पार्टी के आला नेता न सिर्फ इन पांच राज्यों के चुनाव जीतने के लिए जीत का मंत्र देंगे, बल्कि साथ ही देशभर के नेताओं को यह भी बताया जाएगा कि उन्हें किस लाइन के तहत केंद्र सरकार की उपलब्धियों को जनता के बीच पेश करना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बैठक को संबोधित करेंगे।

बीजेपी सूत्रों ने बताया कि बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन खास होगा। वह कुछ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव की दिशा तय करेंगे।

उन्होंने बताया कि बैठक के दौरान राजनीतिक प्रस्ताव पेश किया जाएगा जिसमें रोहिंग्या मुस्लिम के मुद्दे को शामिल किए जाने की संभावना है।

राजनीतिक प्रस्ताव तैयार करने की जिम्मेदारी राम माधव और विनय सहस्रबुद्धे को सौंपी गई है।

बीजेपी सूत्रों का कहना है कि पार्टी की नजर कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, त्रिपुरा और मेघालय पर है। इन पांचों ही राज्यों में अगले साल जनवरी-फरवरी तक विधानसभा चुनाव होने हैं।

ऐसे में पार्टी चाहती है कि इस वक्त मोदी सरकार के प्रति सोशल मीडिया पर जो अभियान चल रहा है, उसकी लगाम लगाने के लिए जरूरी है कि पार्टी इन राज्यों में अपनी जीत का डंका बजाए। सूत्रों का कहना है कि जब पदाधिकारियों की बैठक के बाद कुछ राज्यों की राजनीति पर चर्चा हुई, उस वक्त भी इन राज्यों का जिक्र किया गया।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक, सोमवार को कार्यकारिणी के अंतिम दिन बैठक में इन राज्यों की राजनीतिक स्थिति का और विस्तार से आकलन किया जाएगा।

पार्टी नेताओं का कहना है कि कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश बीजेपी के लिए सबसे अहम राज्य हैं। इनमें अभी कांग्रेस का कब्जा है।

पार्टी चाहती है कि इन दोनों ही राज्यों को कांग्रेस से छीना जाए और गुजरात में भी फिर से भारी जीत हासिल की जाए।

सूत्रों के मुताबिक, त्रिपुरा ओर मेघालय के चुनाव में पार्टी यह तय करेगी कि वहां के स्थानीय दलों से किस तरह से तालमेल किया जाए कि पूरे उत्तर भारत में एनडीए का झंडा लहराने में मदद मिले।

Back to top button