कांकेर में कांग्रेस के आगे भाजपा की चुनौती, गठबंधन बड़ा फैक्टर

-प्रदीप साहू

रायपुर।

अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित कांकेर विधानसभा सीट पर पिछले तीन चुनाव में दो बार भाजपा तो एक बार कांग्रेस ने जीत हासिल की है। वर्तमान में यहां से कांग्रेस के शंकर ध्रुवा विधायक चुने गए हैं।

साल 2003 के विधानसभा चुनाव में भाजपा के अघन सिंह ठाकुर ने इस सीट पर जीत का खाता खोला था। कांग्रेस ने श्याम ध्रुवा को अपना प्रत्याशी बनाया था, जिन्हें भाजपा के हाथों 25811 मतों के अंतर से हार का सामना करना पड़ा। भाजपा के अघनसिंह ठाकुर को 50198 मत मिले वहीं कांग्रेस के धु्रवा को 24387 मतों से संतोष करना पड़ा। एनसीपी के भागवत नेताम 4.21 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 7970 मत प्राप्त कर तीसरे स्थान पर रहे। निर्दलीय रमेश नेताम चौथे व जदयू के अविनाश ठाकुर 2.20 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 2008 मत प्राप्त कर पांचवें स्थान पर रहे।

साल 2008 में भाजपा ने अपना प्रत्याशी बदलते हुए सुमित्रा मार्कोले को अपना उम्मीदवार बनाया जो जीत कर विधानसभा में पहुंचने में कामयाब रही। वहीं कांग्रेस ने डॉ. प्रीति नेताम को मैदान में उतारा था। इस चुनाव में सुमित्रा मार्कोले ने बहुकोणीय मुकाबले में डॉ. प्रीति नेताम को 17503 मतों से हराया। सुमित्रा मार्कोले को 46793 मत मिले वहीं डॉ. प्रीति नेताम को 29290 मतों से संतोष करना पड़ा। निर्दलीय चंद्र प्रकाश ठाकुर 10.52 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 10977 मत प्राप्त कर तीसरे स्थान पर रहे। बसपा की सुलोचना मार्कोश्ले 4.12 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 4292 मत प्राप्त कर चौथे व निर्दलीय मोंटी राम मांडवी पांचवें स्थान पर रहे।

साल 2013 में कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बदलते हुए शंकर धु्रवा को मैदान में उतारा। इस बार कांग्रेस की चाल कामयाब रही और भाजपा के संजय कोडोपी को 4628 मतों से हार का सामना करना पड़ा। शंकर धु्रवा को 50586 मत मिले वहीं संजय कोडोपी को 45961 मतों से संतोष करना पड़ा। निर्दलीय महेंद्र गावडे 7.69 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 9727 मत प्राप्त कर चौथे व नोट को पांचवां स्थान मिला।
आने वाले चुनाव में भाजपा अपना चेहरा बदल सकती है वहीं कांग्रेस अपनी सीट बचाने पूरा जोर लगा रही है। इस बार जोगी-बसपा-सीपीआई गठबंधन पूरी तैयारी के साथ मैदान में है। आम आदमी पार्टी व सर्व आदिवासी समाज भी अपने प्रत्याशी मैदान में उतारेगा। ऐसे हालात में बहुकोणीय मुकाबले के आसार हैं।

Back to top button