सिंहदेव के सवाल पर भाजपा का पलटवार कहा, यह नकारात्मक व विध्वंसक सोच

रायपुर।

प्रदेश भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ के नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव द्वारा राज्य विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने पर किए गए सवाल पर कांग्रेस को घेरा और कहा कि यह किसानों के प्रति कांग्रेस के नजरिए की असलियत को जाहिर करता है।

सोमवार को प्रदेश भाजपा प्रवक्ता विधायक शिवरतन शर्मा ने प्रदेश सरकार पर सिंहदेव द्वारा तंज कसे जाने पर सवाल किया कि किसानों के मुद्दे पर नहीं तो और किस मामले पर विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाना चाहिए? शर्मा ने तीखा कटाक्ष करते हुए कहा कि कांग्रेस नेता का यह सवाल दरअसल कांग्रेस की विध्वंसक व नकारात्मक राजनीतिक सोच को व्यक्त करता है।

कांग्रेस आज तक इसी नकारात्मक व विध्वंसक सोच के धरातल पर राजनीति करने की आदी रही है और इसीलिए छत्तीसगढ़ में पिछले 15 वर्षों में हुए रचनात्मक व विकासपरक कार्य कांग्रेस की सोच के दायरे में न तो दाखिल हो पा रहे हैं और न ही उन्हें ये अच्छे कार्य नजर आ रहे हैं।

प्रदेश भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. सिंह लोकतांत्रिक मर्यादा का पालन कर अपने कार्य में पूरी पारदर्शिता का परिचय देने में विश्वास करते हैं।

वे अपने कार्य के प्रति स्वयं को सदन और प्रदेश की जनता के प्रति जवाबदेह मानकर चलते हैं। प्रदेश की भाजपा सरकार तात्कालिक राजनीतिक लाभ लेने और सिर्फ चुनाव जीतने के लिए योजनाएं नहीं बनाती अपितु पीढिय़ों को उन योजनाओं का लाभ पहुंचाने की दृष्टि से काम कर रही है। यह लाभ मुकम्मल तौर पर वांछित वर्ग तक पूरी शिद्दत के साथ पहुंचे, इसलिए विधानसभा की मुहर इस पर लगाकर मुख्यमंत्री यह सुनिश्चित कर रहे हैं।

शर्मा ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने मुख्यमंत्री पर जो तंज कसा है, वह वस्तुत: प्रदेश के उन सभी किसानों पर कसा गया तंज है, जिन्हें प्रदेश सरकार इस वर्ष 24 सौ करोड़ रुपये का बोनस धान के साथ देने जा रही है।

मॉनसून सत्र में इस विषय पर चर्चा हुई थी, लेकिन बाद में बोनस की राशि में हुए इजाफे से पडऩे वाले आर्थिक भार की पूर्ति के लिए अनुपूरक बजट प्रस्ताव लाकर उस पर विधानसभा की सहमति लेना मुख्यमंत्री और भाजपा की पारदर्शी सोच का परिचायक है और इस पर अपनी नकारात्मक व विध्वंसक राजनीतिक सोच का परिचय देकर सवाल उठाना कांग्रेस को शोभा नहीं देता।

उन्होंने कहा कि सिंहदेव के तंज को भाजपा और प्रदेश सरकार उदारता के साथ सह लेगी लेकिन यह तंज वे अन्नदाता माटी पुत्र किसान कदापि नहीं सहेंगे, जो अपना खून-पसीना बहाकर भी कांग्रेस के राज में अपने हक के आर्थिक लाभ से वंचित रखे जा रहे थे।

शर्मा ने कहा कि कांग्रेस के पास अब कोई मुद्दा रह नहीं गया है और सत्ता के विछोह में कांग्रेस नेता बिलबिला रहे हैं, इसलिए वे सकारात्मक सोच के साथ किए जा रहे राज्य सरकार के हर काम का महज विरोध के लिए विरोध करके अपनी ओछी मानसिकता का परिचय दे रहे हैं। प्रदेश के किसान और सभी मतदाता अगले चुनाव में कांग्रेस को एक बार फिर उसकी जमीन दिखा देंगे।

Tags
Back to top button