रेती की कालाबाजारी और किल्लत: पिछले 1 माह से राजधानीवासी परेशान, कई निर्माण कार्य अटके

छत्तीसगढ़ संगवारी संघर्ष समिति ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, तत्काल कार्यवाही की मांग

रायपुर: राजधानी में इन दिनों रेत की किल्लत और कालाबाज़ारी की वजह से स्थिति भयावह होती जा रही है। पिछले 1 माह से निर्मित ऐसी स्थिति के कारण अधिकांश निर्माणाधीन मकानों का काम बंद हो गया है। इस भयावह स्थिति के निदान हेतु आज छत्तीसगढ़ संगवारी संघर्ष समिति के सदस्यों ने एस.डी.एम. अनुप्रिया को ज्ञापन सौंपकर तत्काल उचित कार्यवाही की मांग की। समिति के अध्यक्ष राजकुमार राठी ने बताया कि पिछले एक माह से राजधानी रायपुर में रेती की कीमत में डेढ़ गुना वृद्धि के साथ ही बढ़ी हुई कीमत में भी रेती की आपूर्ति नहीं हो पा रही है।

ऐसे में मध्यम एवं गरीब परिवार को मकान बनाने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा निर्माण कार्यो में लगे हुए मज़दूरों को भी बेरोज़गारी का सामना करना पड़ रहा है। रोजगार ना मिलने से मज़दूरों के समक्ष रोज़ी-रोटी की समस्या खड़ी हो गयी है। रेती की किल्लत से मध्यम एवं गरीब परिवार का मकान बनाने का सपना अधूरा हो गया है।

समिति के सदस्य मयंक श्रीवास्तव, कीर्तिभूषण पांडेय, स्मिता पांडेय, दीपेश सिंह खालसा, बंटी बाघ, हरिओम साहू, पप्पू साहू, बिट्टू शर्मा, अरुण पोद्दार, संतोष गंगवानी, किशोर नायक, राहुल मनचंदा, अनुराग अग्रवाल सहित अन्य सदस्यों ने एसडीएम से मांग की है कि तत्काल रेती की आपूर्ति पूर्व की दर पर सुनिश्चित करें, ताकि शहर के नागरिकों के मकान का निर्माण कार्य शुरू हो सके। साथ ही इन निर्माण कार्यो में काम करने वाले मज़दूर भी बेरोज़गारी से बच सके।

Back to top button