क्राइमछत्तीसगढ़

प्यार के जाल में फंसाकर ब्लैकमेल करने वाले गिरोह का पुलिस ने किया पर्दाफाश

पुलिस ने जानकारी दी है कि ये गिरोह के सदस्य महिलाओं के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से दोस्ती करकर उन्हें अपने प्रेम के जाल में फसाकर उनकी फोटो और वीडियो मांगकर उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे।

रायपुरः फेसबुक पर पहले दोस्ती करना फिर अपने प्यार के जाल में फंसाकर ब्लैकमेल करना इस तरह से सोशल मीडिया पर गुनाह करने वालों का रायपुर पुलिस ने बड़े पैमाने में खुलासा किया है।

रायपुर एसपी अमरेश मिश्रा ने खुलासा करते हुए बताया है कि उन्हें एक नाईजीरियन गिरोह को पकड़ने में बड़ी सफलता मिली है। ये गिरोह करीब 500 से 1000 महिलाओं को अपने झांसे में लेता था।

पुलिस ने जानकारी दी है कि ये गिरोह के सदस्य महिलाओं के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से दोस्ती करकर उन्हें अपने प्रेम के जाल में फसाकर उनकी फोटो और वीडियो मांगकर उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे। वहीं एसपी एमरेश मिश्रा ने कहा इस गिरोह को पकड़ने वाले लोगो को इनाम दिया जाएगा। जिसके लिए वरिष्ठ अधिकारियों को अनुशंसा भेज दी गई है।

ऐसा ही एक मामला रायपुर सिविल लाइन थाने में आने पर पीड़िता ने आरोपी के खिलाफ शिकायत करते हुए बताया कि आरोपी ने उसे अपने प्रेम जाल में फंसाकर उसके अश्लील वीडियो और फोटो ले लिए हैं जिसके बाद वह ब्लैकमेल कर 7 लाख रुपए की मांग की थी।

महिला ने बताया कि उसने ब्लैकमेलर के अलग-अलग खाते में पैसे को जमा करवाए है। जिसके बाद पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पड़ताल शुरू की और क्राइम की टीम को दिल्ली के लिए रवाना किया।

पुलिस के 10 दिन के अथक प्रयासों के बाद इस गिरोह के 4 सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि आरोपी के अलावा कुल 3 और लोग भी ऐसा ही काम किया करते थे और कई महिलाओं का इसी प्रकार से चकमा दे चुके थे।

पुलिस ने गिरोह के पास से, 10 लेपटॉप के साथ 20 से ज़्यादा मोबाइल और टेबलेट भी बरामद किये है। इसके अलावा इन आरोपियों के पास से 3 पासपोर्ट के साथ कैश भी बरामद किये गए है। साथ ही पुलिस ने बताया कि इस पूरी ठगी के नेटवर्क का मास्टरमांइड कैनिस डिमा है। जो इसे संचालित करता था।

Summary
Review Date
Reviewed Item
प्यार के जाल में फंसाकर ब्लैकमेल करने वाले गिरोह का पुलिस ने किया पर्दाफाश
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
jindal

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.