बीएमसी ने सभी शिक्षकों को बच्चों को घर से ऑनलाइन पढ़ाने के लिए कहा

मुंबई में बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते बीएमसी ने लिया बड़ा फैसला

मुंबई:बीएमसी (बृहन्मुंबई नगर निगम) ने मुंबई में बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते स्कूलों में 50 फीसदी शिक्षकों के अटेंडेंस को पूरी तरह से बंद करने का आदेश दिया है. सभी शिक्षकों को बच्चों को घर से ऑनलाइन पढ़ाने के लिए कहा गया है.

17 मार्च से इस नए आदेश को लागू किया जाएगा और अगले आदेश तक जारी रहेगा. महाराष्ट्र में लगातार कोरोना के मामलों में कमी आई थी. लेकिन अब कोरोना के मामलों में एक बार फिर बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. महाराष्ट्र में अब तक 2,329,464 मामले सामने आ चुके हैं.

पिछले 24 घंटे में 15051 मामले सामने आ चुके हैं. वहीं इस वायरस से 52909 लोगों की जान जा चुकी है. पिछले 24 घंटे में ही 48 लोगों की मौत हुई है. अब तक 2,144,743 लोग ठीक हो चुके हैं. महाराष्ट्र में अब 131812 मामले एक्टिव हैं

केंद्र ने लिखा महाराष्ट्र को पत्र

महाराष्ट्र सहित देश के कई राज्यों में कोरोना के मामले बढ़ने के बाद केंद्र ने संबंधित राज्यों में विशेषज्ञों की टीम भेजी थी. इस टीम ने अपने दौरे के बाद एक रिपोर्ट तैयार की और उसे केंद्र सरकार को भेजा. इसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्य के मुख्य सचिव को पत्र लिख कर इस रिपोर्ट से मिली जानकारियों को शेयर किया.

केंद्रीय कोरोना स्क्वॉड ने विदर्भ के दौरे में कोरोना से जुड़ी स्थिति का जो जायजा लिया उससे कई जानकारियां सामने आईं. इन्हीं जानकारियों के आधार पर केंद्र सरकार ने राज्य सरकार को कोरोना पर लगाम लगाने के लिए कई नसीहतें दीं.

नए नियम लागू किए गए

राज्य सरकार द्वारा जो नए लागू किए गए नियम हैं उनमें सबसे प्रमुख नियम सिनेमाघर, होटल, रेस्टॉरेंट को 50 प्रतिशत की क्षमता से खुले रखने से संबंधित है. इस नियम के तहत ग्राहकों और कर्मचारियों के लिए मास्क, सैनिटाइजर, सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना आवश्यक होगा.

शॉपिंग मॉल्स में भी सिनेमाघर और होटल-रेस्टॉरेंट के लिए तय किए गए नियमों का पालन किया जाएगा. किसी भी सांस्कृतिक, सामाजिक या धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन करना और वहां भीड़ इकट्ठी करने पर पूरी तरह से रोक है.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button