कश्मीर की खूबसूरती से गुलज़ार होगा बॉलीवुड, आज फ़िल्म पॉलिसी होगी लॉन्‍च

श्रीनगर. कश्‍मीर से आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35A के हटाए जाने के दो साल के बाद घाटी के हालात काफी तेजी से बदले नजर आ रहे हैं. जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने केंद्र शासित प्रदेश के विकास के लिए बहुत से कदम इन 2 सालों में उठाए हैं. इसी कड़ी में अब हिंदी फिल्म निर्माताओं को कश्मीर में फिल्म की शूटिंग के लिए प्रोत्साहित करने के लिए राज्य प्रशासन बड़ा कदम उठाने जा रहा है.

कश्मीर में पहले भी कई बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग हुई है लेकिन 90 के दशक में आतंकवाद और हिंसा के बीच फिल्म निर्माताओं ने खूबसूरत लोकेशन के लिए विदेशों का रुख करना शुरू कर दिया था. लेकिन अब बॉलीवुड में एक बार फिर कश्मीर की खूबसूरत वादियां रंग बिखेरेंगी. अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के 2 साल पूरा होने पर उपराज्यपाल मनोज सिन्हा आज नई फिल्म पॉलिसी लॉन्च करेंगे. यह कार्यक्रम गुरुवार शाम 7:00 बजे डल झील के किनारे SKICC में होने वाला है.

सूत्रों ने NEWS18 को बताया कि अब कश्मीर में फिल्मों की शूटिंग करना ना सिर्फ आसान होगा बल्कि प्रशासन इसके लिए निर्माताओं को कई सुविधाएं भी देने जा रहा है. कश्मीर में बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग के लिए ऑनलाइन सिंगल विंडो पोर्टल का निर्माण किया जाएगा, जिससे सभी एजेंसीज को शूटिंग के लिए परमिशन मिलेगी. वहीं फिल्मों की शूटिंग बिना किसी रुकावट के हो इसके लिए दो नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की जाएगी.

:- जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजों पर कसी नकेल! अब नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी, ना बनेगा पासपोर्ट

नई फिल्‍म पॉलिसी में क्‍या होगा खास
— नई फिल्म पॉलिसी के तहत केंद्र शासित प्रदेश में जम्मू कश्मीर फिल्म डेवलपमेंट काउंसिल को स्थापित किया जाएगा.

— एक वेबसाइट तैयार की जाएगी, जिसमें सभी शूटिंग डेस्टिनेशन और टैलेंट पूल का ब्योरा होगा. इतना ही नहीं देश भक्ति और कुछ अन्य थीम्स को लेकर शूटिंग में फ़िल्म को सब्सिडी दी जाएगी.

— इसके साथ ही पहली, दूसरी और तीसरी फिल्म की शूटिंग के लिए भी सब्सिडी दी जाएगी. अवॉर्ड विनिंग प्रोड्यूसर और डायरेक्टर की फिल्मों को भी सब्सिडी मिलेगी.

— फिल्म, टीवी शो, वेब सीरीज और ओटीटी प्लेटफॉर्म के शो और डॉक्यूमेंट्री पर भी सब्सिडी मिलेगी. फिल्म की शूटिंग के दौरान रहने की व्यवस्था पर भी सब्सिडी दी जाएगी.

— फिल्मों की शूटिंग के लिए एयर स्ट्रिप्स के इस्तेमाल की इजाजत भी राज्य प्रशासन की तरफ से दी जाएगी.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button