छत्तीसगढ़

भावी योजनाओं और खेल प्रतिभाओं को शीर्ष स्थान पर पहुंचाने किया गया मंथन

अंकित मिंज

बिलासपुर : डॉ. सीवी रमन विश्वविद्यालय में आईसेक्ट की राष्ट्रीय बैठक आयोजित की गई। जिसमें इस वर्ष के कार्यों की समीक्षा और भावी योजनाओं पर मंथन किया गया। बैठक में कौशल विकास, शिक्षा, उद्यमिता, नई सेवाओं और सुविधाओं का विस्तार ,वित्तीय समावेशन सहित सामाजिक सरोकार के कार्य पर चर्चा की गई।

इस बैठक में आईसेक्ट के डायरेक्टर संतोष चौबे और देश भर से आए हुए 100 से ज्यादा समन्वयक में भागीदार की।
इस संबंध में जानकारी देते हुए डॉ.सीवी रामन् विवि के कुलाधिपति संतोष चौबे ने बताया कि वर्ष में एक बार देश के सभी राज्यों की समन्वयक और अधिकारियों की बैठक आयोजित की जाती है।

इस बार यह बैठक डॉ.सीवी रामन् विवि कैंपस में रखी गई है। चौबे ने सभी राज्यों से आए राज्य समन्वयकों को बताया कि जब सीवीआरयू स्थापित किया गया था, तब यह मध्य भारत की पहला निजी विवि था। इसके बाद ग्रुप ने अलग-अलग राज्यों में 5 विवि स्थापित किए हैं।

उन्होंने बताया कि छ.ग. की उच्च शिक्षा के नीतियों को दूसरे राज्यों ने स्वीकार किया और इस आधार पर कार्य भी किया है। एक तरह से छत्तीसगढ़ राज्य ने उच्च शिक्षा के लिए नेतृत्व प्रदान किया है। उन्होंने कहा आज हर क्षेत्र में भारतीय परिस्थतियों के अनुसार नए इनावेशन की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि खेल भी एक महत्वपूर्ण सेेक्टर हो सकता हैं ,जिसमें बेहतर कार्य किया जा सकता है।
उन्होंने बताया कि कबड्डी,तीरंदाजी और एथलेटिक में भी हम बेहतर काम कर सकते हैं जिसमें कि विद्यार्थियों को सुविधा और प्रशिक्षण के साथ उन्हें राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर तक चयनित कराया जा सकता है।

इसके साथ उन्होंने आईसेक्ट ग्रुप के सभी विश्वविद्यालयों में नए कोर्स शुरू किए जाने की बात कही। इस अवसर पर विवि के कुलसचिव गौरव शुक्ला ने सभी को विवि के बारे में विस्तार से जानकारी दी। यूटीडी और दूररस्थ शिक्षा के विद्यार्थियों को दी जाने वाली विश्व स्तरीय सुविधाओं के बारे में बताया।

आईसेक्ट के नेटवर्क की शक्ति देश और समाज के लिए- प्रो.दुबे: इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.आरपी दुबे ने कहा कि 30 साल पहले एक व्यक्ति की सोच से शुरू हुई ये संस्था आज देश के बड़े गु्रप में आपके सामने है। इतने बड़े नेटवर्क को तैयार करने में अब वर्षों लग गए।

देश भर में फैले नेटवर्क की शक्ति आज देश और समाज के ताकत है। जिससे केंद्र व राज्य सरकार के साथ आज सभी क्षेत्र में जनसुविधाओं के साथ काम किया जा रहा है।
अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क में काम करने की जरूरत.सिद्धार्थ: इस अवसर पर आईसेक्ट के डायरेक्टर सिद्वार्थ चतुर्वेदी ने कहा कि आईसेक्ट देश सबसे बड़ा नेटवर्क है।

आज हमें अंतराज़्ष्ट्रीय नेटवर्क के क्षेत्र में काम करने की जरूरत है। जिससे की तेजी से सेवाओं और सुविधाओं को लोगों तक पहुंचा जा सकें। उन्होंने बताया कि ग्रुप के कार्यों में कौशल विकास, प्रोजक्ट वर्क, आधार कार्ड से जुड़ी सेवाएं, अप्रेंटिसशिप एंड कापोरेट ट्रेनिंग, प्री-स्कूल, ब्रेनी बियर स्कूल सहित अन्य सुविधा और सेवाएं का विस्तार किया जाना है। जल्द ही ग्रुप नए रूप में उर्जा के साथ आपके सामने होगा।

Summary
Review Date
Reviewed Item
भावी योजनाओं और खेल प्रतिभाओं को शीर्ष स्थान पर पहुंचाने किया गया मंथन
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags