छत्तीसगढ़

Breaking : विंग कमांडर गजानंद यादव ने तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहसिक पुरस्कार 2019 जीता

इन पुरस्कारों को अर्जुन पुरस्कार के बराबर माना जाता है.

तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहसिक पुरस्कारों को साहसिक खेलों के लिए भारत का सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कार माना जाता है. इन पुरस्कारों को अर्जुन पुरस्कार के बराबर माना जाता है.

विंग कमांडर गजानंद यादव ने एयर एडवेंचर श्रेणी में तेनजिंग नोर्गे ‘राष्ट्रीय साहसिक पुरस्कार 2019’ जीता है. भारतीय वायु सेना ने ट्विटर पर एक पोस्ट के माध्यम से यह विशेष पुरस्कार जीतने के लिए यादव को बधाई दी है.

गजानंद यादव पैराशूट जंप प्रशिक्षक हैं. वे IAF की स्काइडाइविंग टीम आकाश गंगा के सदस्य भी हैं. उन्होंने अब तक 2900 से अधिक बार छलांग लगाई हैं.भारतीय वायुसेना ने गजानंद यादव की स्काइडाइविंग और पैराशूट उड़ाने की कुछ झलकियां भी साझा की हैं.

भारतीय वायु सेना ने वायु सेना के खेल नियंत्रण बोर्ड (AFSCB) को ‘राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार 2020’ से सम्मानित किए जाने के लिए भी बधाई दी. यह पुरस्कार खेल को प्रोत्साहन और बढ़ावा देने की दिशा में निरंतर प्रयास करने के लिए दिया जाता है.

तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहसिक पुरस्कार

• तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहसिक पुरस्कारों को साहसिक खेलों के लिए भारत का सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कार माना जाता है. इन पुरस्कारों को अर्जुन पुरस्कार के बराबर माना जाता है.

• साहस के क्षेत्र में लोगों की उपलब्धियों को पहचानने के लिए प्रतिवर्ष ये पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं. इन पुरस्कारों को चार श्रेणियों – वायु में साहस, भूमि पर साहस, जल में साहस और जीवन भर की उपलब्धि के लिए सम्मानित किया जाता है.

• इस पुरस्कार का उद्देश्य साहसिक गतिविधियों के लिए युवा लोगों को प्रोत्साहन के तौर पर सम्मान देना है. राष्ट्रीय चयन समिति द्वारा प्रस्तुत की गई सिफारिशों के आधार पर केंद्र सरकार द्वारा ये पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं.

तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहसिक पुरस्कार 2018 के विजेता

  1. अपर्णा कुमार – भूमि पर साहस श्रेणी
  2. स्वर्गीय श्री दीपांकर घोष- भूमि पर साहस श्रेणी
  3. मणिकंदन के – भूमि पर साहस श्रेणी
  4. प्रभात राजू कोली – जल में साहस श्रेणी
  5. रमेशवरजंगरा – वायु में साहस

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button