छत्तीसगढ़

बृजमोहन और भूपेश का पुतला दहन

दोनों नेताओं की तुलना असुरों से

–अनुराग शुक्ला

जगदलपुर : छत्तीसगढ़ सरकार में मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल द्वारा सरकारी संरक्षण में गैर कानूनी रूप से हड़पी जमीनों के गंभीर मामलों को लेकर आज जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने प्रदेशव्यापी आंदोलन किया और महामहिम राज्यपाल से दोनों नेताओं पर कठोर कार्यवाही करने तथा हड़पी जमीनों को किसानों और आदिवासियों को लौटाने की मांग की।

जिला एवं ब्लॉक स्तर पर हुए प्रदेशव्यापी विरोध प्रदर्शन में पार्टी के कार्यकर्ताओं सहित आम लोगों ने भी बड़ी संख्या में भाग लिया।बस्तर संभाग मुख्यालय जगदलपुर में रमन सरकार को मुर्दे के रूप में दिखाकर प्रदर्शनकारियों ने कफऩ ओढ़, सड़कों पर लेट कर मुख्यालय में अनोखा प्रदर्शन किया। ये दर्शाते हुए कि आम जनता के लिए रमन सरकार मर चुकी है तभी भूपेश और बृजमोहन जैसे भूमाफियाओं पर कार्यवाही नहीं कर रही है।

रमन सरकार मर चुकी है तभी उसे गरीब आदिवासियों और किसानों का दर्द दिखाई नहीं दे रहा है। रमन सरकार मर चुकी है तभी तो वन भूमि, रिसोर्ट बन जाती है और स्कूल की भूमि फार्म हाउस बन जाती है। बृजमोहन और भूपेश दोनों भूमाफियों की तुलना महाभारत के पात्र बकासुर दानव से करते हुए जकांछ ने दोनों को भू-कासुर दानव बताया, ऐसे दानव जो जनता की भूमि हड़पते हैं। वहीँ दोनों पर कार्यवाही न करने वाले मुख्यमंत्री को कुम्भकरण बताया।

जकांछ के शहर जिला अध्यक्ष पुलक भट्टाचार्य ने कहा कि परिवार के सदस्यों के नाम पर वन भूमि और गरीब आदिवासी किसानों की जमीन दबाने का खेल चलता रहा और मुख्यमंत्री कुम्भकर्णीय नींद सोते रहे।ये सरकारी संरक्षण का ही परिणाम है कि सत्ता और विपक्ष के ये दोनों नेता जमीन हड़पने और उस पर बेजा कब्ज़ा कायम करने में सफल हो पाए। जहाँ बृजमोहन ने सिरपुर के निकट वन भूमि पर भव्य रिसोर्ट बनाया वहीँ भूपेश ने न सिर्फ कुरूदडीह के आदिवासियों की जमीन सरकार से सांठ-गाँठ कर अपने नाम की बल्कि सरकारी स्कूल के लिए आबंटित जमीन को भी धोखाधड़ी कर अपने परिवार के नाम कर लिया।

एक ओर प्रदेश के किसान मर रहे हैं और दूसरी ओर सत्ता और विपक्ष के नेता किसानों और गरीबों की जमीन लूटने में लगे हैं। स्वाभाविक है कि इन दोनों द्वारा किया गया बेजा कब्ज़ा बिना शासन-प्रशासन के संरक्षण के संभव नहीं है। छत्तीसगढ़ में रसूखदार लोग अपने राजनितिक पद का धौंस दिखाकर गरीब किसानों की जमीनों और गरीबों के हितों के लिए आबंटित सरकारी भूमि पर कब्ज़ा कर रहे हैं जिससे आम आदमी भय और दबाव में जीने विवश है ।

आंदोलन के दौरान, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने महामहिम राज्यपाल के नाम अपने ज्ञापन में कहा कि संविधान के रक्षक और एक जनसेवक होने के नाते आपका यह दायित्व बनता है कि आप बिना किसी राजनितिक दबाव के, संविधान में प्रदत्त अपनी शक्तियों का प्रयोग जनहित में करें और इन दोनों भूमाफियों के विरुद्ध चारसौबीसी, धोखाधड़ी तथा सरकारी संपत्ति हड़पने के जुर्म के तहत कठोर व् तत्काल कार्यवाही करने छत्तीसगढ़ सरकार को निर्देशित करें।जकांछ ने कहा कि इस मुद्दे पर सरकार को चैन से बैठने नहीं दिया जाएगा। केंद्रीय जांच एजेंसियों से जांच की मांग के साथ साथ इस गंभीर मामले को विधानसभा के आगामी मानसून सत्र में भी जोरशोर से उठाया जाएगा।

कार्यक्रम मे मुख्य रूप से केन्द्रीय समिति के सदस्य कोणडल राव शहर जिला अध्यक्ष पुलक भट्टाचार्य, शहर कार्यवाहक अध्यक्ष अमित पाण्डे,ग्रामीण जिलाध्यक्ष राम केसरी सेठिया ,महिला जनता काँग्रेस संभाग अध्यक्ष तौशिफ जहाँ,प्रदेश संघठन मंत्री नवनीत चाँद,संभागीय प्रवक्ता शंकर तिवारी, प्रदेश महासचिव रोजविन दास, संभागीय अध्यक्ष जावेद खान, संभागीय सचिव बाबा जमील, शहर जि़ला अध्यक्ष राम साहू, ग्रामीण जिलाध्यक्ष नरेंद्र भवानी,सैफाली,रवि सरकार,आकाश राजपूत, सागर शर्मा, बस्तर ब्लाक अध्यक्ष बलराम बेसरा,नगरनार ब्लाक अध्यक्ष रूपेश समरथ तथा भारी संख्या में पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे.

Back to top button