स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव के बयान पर बृजमोहन अग्रवाल ने ली चुटकी

वैक्सीन को लेकर शंका गलत

रायपुर, छत्तीसगढ़। पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के वैक्सीन को लेकर दिए बयान पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। अग्रवाल ने कहा है कि सिंहदेव एक सुलझे व्यक्ति हैं। कोरोना जैसी गंभीर बीमारी के वैक्सीन को लेकर बयानबाजी नहीं करना चाहिए। इससे जनता में भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है। वैक्सीन को लेकर किसी प्रकार की शंका व्यक्त करना पूरी तरह से गलत है। इसे विद्वान वैज्ञानिकों के रिसर्च के बाद फाइनल किया गया है।

गौरतलब है कि स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के बार-बार पत्र लिखने के बावजूद केंद्र सरकार छत्तीसगढ़ को को-वैक्सीन भेज रही है। इसे गंभीरता से लेते हुए छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को एक बार फिर से पत्र लिखा है, और स्पष्ट कहा है कि, छत्तीसगढ़ में को-वैक्सीन ना भेजें, क्योंकि अभी इसका तीसरे चरण का ट्रायल नहीं हुआ है और जब तक को-वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल पूरा नहीं होगा तब तक छत्तीसगढ़ में को-वैक्सीन का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।

इस्तेमाल नहीं होने से छत्तीसगढ़ में रखी को-वैक्सीन की 72,540 डोज खराब हो जाएंगी। स्वास्थ्य मंत्री ने 21 जनवरी को भी को-वैक्सीन ना भेजने के लिए केंद्र सरकार को पत्र लिखा था, उसके बावजूद फिर से को-वैक्सीन की 8 फरवरी को 37 हजार 760 डोज छत्तीसगढ़ भेज दी गई। बता दें कि छत्तीसगढ़ में भेजी गई को वैक्सीन की एक्सपायरी डेट 8 मई है, IBC24 ने भी इस बात को प्रमुखता से उठाया था, जिसमें डोज की संख्या, लोगों की रुचि और वैक्सीन की एक्सपायरी डेट को लेकर बात की गई थी।

साथ में यह भी बताया गया था कि राज्य में को-वैक्सीन की डोज भी भेजी जा रही है, जबकि छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री इसके इस्तेमाल को ठुकरा चुके हैं। ऐसे में ये सभी वैक्सीन खराब हो जाएंगी। ऐसे में छत्तीसगढ़ में सप्लाई वैक्सीन का इस्तेमाल समय से पहले करना जरूरी है।

बता दें छत्तीसगढ़ में वैक्सीन की अब तक 6 लाख 60 हजार 540 डोज सप्लाई हो चुकी है, जिसमें से 72,540 डोज को-वैक्सीन की है और 5 लाख 88,000 डोज कोविशील्ड वैक्सीन की है। इससे अब तक 1 लाख 67 हजार 852 स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button