बृजमोहन अग्रवाल ने वैक्सीनेशन, धान भीगने और ऑनलाइन शराब को लेकर सरकार की मंशा पर उठाए सवाल

मोहन मरकाम ने किया पलटवार

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के कांग्रेस के सांसद, विधायकों की मीटिंग को लेकर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता बृजमोहन अग्रवाल ने तंज कसते हुए कहा कि कॉंग्रेस न सरकार न पार्टी के तौर पर काम कर रही है । इस कोरोना संक्रमण काल में कांग्रेस फील्ड से पूरी तरह गायब है । केंद्र द्वारा दिये मुफ्त राशन का वितरण नहीं हो रहा है । केंद्र द्वारा मजदूर कल्याण का 1 हज़ार करोड़ रुपये अब तक नहीं बांटा गया है । यह सरकार सिर्फ बात कर रही है । राज्य सरकार के पास युवाओं को वैक्सीन लगाने के लिए पैसे नहीं है ।

पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने राजभवन की सक्रियता पर कहा कि जनता के प्रति सरकार अपनी जिम्मेदारियां पूरी नहीं करती, तब राज्यपाल को हस्तक्षेप करना पड़ता है। सरकार के पास 1 हज़ार करोड़ लघुवनोपज का उपलब्ध है, लेकिन इसका पैसा ग्रामीण अंचलों में खर्च क्यों नहीं किया जा रहा। शराब के सेस, आपदा प्रबंधन, DMF के पैसों से निजी टेंडर को लाभ पहुंचाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार यह साफ करें कि 70 लाख लोगों को वैक्सीन लगानी है, 35 लाख वैक्सीन केंद्र भिजवा चुकी है । वे बताएं कि 18 प्लस के 1 करोड़ से अधिक लोगों को वैक्सीन लगाने का क्या प्लान है । शराब की होम डिलीवरी को लेकर कहा कि यदि सरकार शराब घर घर पहुंचा सकती है, तो किसानों का धान मंडियों के ज़रिए घर घर जाकर क्यों नहीं खरीद सकती ।

पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने बेमौसम बारिश से धान सड़ने के मामले पर कहा कि लगभग 40 लाख टन धान पड़े पड़े खराब हो रहा है, अब तक 3 महीने बाद भी सरकार धान की मिलिंग नही करवा पाई, केंद्र से मांग कोटा बढ़ाने का करते थे लेकिन अब तक उसकी मिलिंग सरकार नहीं करवा सकी, अव्यवस्था के कारण करोड़ों का नुकसान हो रहा है।

इस पर पलटवार करते हुए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि भाजपा अपने कार्यकाल में शराब की जगह अमृत पंहुचा रही थी क्या ? छत्तीसगढ़ 7 राज्यों से घिरा है । अवैध रूप से शराब आ रहा है । इसे रोकने के लिए सरकार यदि ऑनलाइन शराब बेच रही है तो इनके पेट में दर्द क्यों हो रहा है । बीजेपी नेताओं का चाल चरित्र चेहरा अलग अलग है, यूपी, कर्नाटक, हरियाणा जैसे अन्य राज्यों में शराब बिक रही है । यहां बीजेपी को सिर्फ राजनीति करनी है ।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button