बेटी की याद में भारतीय दंपती का अनोखा अभियान

शहतूत और दुग्ध उत्पादों के गंभीर रिऐक्शन के कारण अपनी नौ वर्षीय बेटी को खोने वाले भारतीय मूल के एक दंपती ने अनोखा अभियान शुरू किया है। शहर या देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लोगों में ऐलर्जी को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए उन्होंने अभियान शुरू किया है।

इसका मकसद ऐलर्जी को लेकर जागरूकता फैलाना, प्रशिक्षण और उसके इलाज में अनुसंधान को बढ़ावा देना है। इसके लिए दंपती की बेटी नयनिका के नाम पर नयनिका टिक्कू मेमोरियल ट्रस्ट (एनटीएमटी) फॉर ऐलर्जी केयर ऐंड ब्रेन रिसर्च नामक गैर-लाभकारी चैरिटेबल ट्रस्ट की स्थापना की गई है।

ट्रस्ट ब्रिटेन में काम शुरू करेगा लेकिन इसे भारत सहित पूरे विश्व में ले जाने की योजना है।

अपनी बेटी को खोने के बाद ट्रस्ट की स्थापना के लिए लगातार मेहनत करने वाली लक्ष्मी कौल ने कहा, अनुसंधान को बढ़ावा देने की कोशिश के तहत हम विभिन्न देशों की घटनाओं को दर्ज करना चाहते हैं और विभिन्न देशों में समस्या के प्रकार और उसके आकार की तुलना करना चाहते हैं। प्राथमिक तौर पर ऐसा कहा जाता है कि यह पश्चिम की समस्या है और भारत एवं पूर्व में इसका अस्तित्व नहीं है।

Back to top button