छत्तीसगढ़

पसान राजस्व विभाग में दलाल और एवजी का बोलबाला

रितेश गुप्ता

पोड़ी उपरोड़ा :-पसान शासकीय विभागों में जो काम लाइन में लगकर नहीं हो पाता या नियमों की दुहाई देकर अटका दिया जाता है, वो ही काम रिश्वत के रुपए लेकर फौरन करने वाले दलालों और शासकीय अमले को काम में राहत देने वाले एवजियों की भूमिका अब विभागों में स्थायी होती जा रही है। इन पर कार्रवाई करने की बात तो सख्ती से कही जाती है, लेकिन ये सख्ती सतही तौर पर दिखाई नहीं देती। वजह भी साफ है कि भ्रष्टाचार में ये एवजी, दलाल शासकीय अमले के लिए राहत देने वाले होते हैं और कार्रवाई का डर भी नहीं रहता।

यही वजह है कि लगभग हर विभाग में खासकर राजस्व विभाग में इस तरह के लोग सक्रिय हैं।

पसान में हाल ही में शासकीय जमीनों पर कब्जेधारियों को नोटिस जारी किया गया था , इसके तत्काल बाद दलाल सक्रिय हो गए और लेनदेन करवाकर सभी शासकीय भूमि में अतिक्रमण मामलो को रफादफा करवा दिया गया।

राजस्व विभागो में ऐसी भूमिका:-/

तहसील : शासकीय भूमि पर कब्जा के मामले ,जमीनों के नामांतरण, बंटवारे सहित अन्य विवादों को लेकर बड़ी संख्या में ग्रामीण उप तहसील कार्यालय आते हैं। यहां दलाल सक्रिय हैं जो ऋण पुस्तिका बनवाने से लेकर अन्य सभी कामों के लिए ठेका लेने के लिए तत्पर रहते हैं । मुख्य बात ये है कि इतना खुलेआम दलाली दलालों द्वारा की जाती है इसमें या तो अधिकारी इनको नजरअंदाज करते है या इनकी मिलीभगत से इन सभी कार्यो को पूरा किया जाता हैं ।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button