अपने घर में परिवार वालों के साथ सो रही किशोरी के चेहरे पर जीजा ने फेका तेजाब

किशोरी के पिता ने संदेह के आधार पर अपने दामाद लखन यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया

गाजियाबाद:गाजियाबाद के कृष्णा एंक्लेव मोरटी में रहने वाली एक किशोरी अपने घर में परिवार वालों के साथ सो रही थी। तभी उसके जीजा ने किशोरी के चेहरे पर तेजाब फेंक दिया।

किशोरी के पिता ने संदेह के आधार पर अपने दामाद लखन यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। उधर, पुलिस ने मामले की जांच करते हुए सोमवार को आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

नंदग्राम कोतवाली प्रभारी नीरज कुमार सिंह ने बताया कि छह साल पहले आरोपी ने पीड़ित किशोरी की बड़ी बहन के साथ प्रेम विवाह किया था, लेकिन पत्नी के साथ आए दिन उसके झगड़े होते रहते थे। ऐसे में वह मन ही मन अपनी साली को चाहने लगा था। पूछताछ में उसने बताया कि पीड़िता का किसी अन्य आदमी से बात करना उसे पसंद नहीं था।

बार-बार समझाने पर भी वह मान नहीं रही थी, इसलिए उसने उसके चेहरे पर तेजाब डाल दिया। वहीं परिवार वालों को उसके ऊपर शक ना हो, इसके लिए वारदात के बाद खुद ही उसके ऊपर पानी डालकर अस्पताल भी ले आया। पुलिस ने आरोपी को अदालत में पेश कर जेल भेज दिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

पुलिस की पूछताछ में सामने आया है कि पत्नी के रूखे व्यवहार के चलते आरोपी पत्नी से दूर हो रहा था। ऐसे हालात में वह अपनी साली पर बुरी नजर रखता था। ऐसे में मौका देखकर आए दिन वह पीड़ित किशोरी के साथ छेड़छाड़ करने लगा, जबकि पीड़िता उसे कई बार इसके लिए फटकार लगा चुकी थी। यहां तक कि घर में उसे देखकर वह नजरअंदाज करने लगी थी। इस बात से उसे काफी जलन होने लगी थी।

किशोरी के पिता ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि चार जून की रात में उसका पूरा परिवार घर के अंदर सो रहा था। आधी रात में जब सब लोग गहरी नींद में थे तो अचानक उनकी बेटी की चीखें सुनाई दीं। सभी लोगों ने उठकर देखा तो बेटी के चेहरे पर छाले बन रहे थे। चीख-पुकार मची और आनन फानन में उसे अस्पताल ले जाया गया।

इस दौरान उनके दामाद लखन के लोवर पर भी जगह जगह तेजाब से जले का निशान दिखे। इसके बारे में पूछने पर वह कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया। ऐसे में पीड़ित पिता ने दामाद पर शक जाहिर करते हुए मुकदमा दर्ज करा दिया। आरोप लगाया कि पहले भी उनका दामाद किशोरी के साथ छेड़छाड़ कर चुका है।

TAGS

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button