टेक्नोलॉजीराष्ट्रीय

बीएसएनएल ने दिया चीन को जोर का झटका

BSNL/MTNL में चीनी उपकरण बैन

नई दिल्‍ली: केंद्र सरकार के फैसले का पालन करते हुए सरकारी दूरसंचार वाहक बीएसएनएल ने बुधवार को चीनी कंपनियों को इस प्रक्रिया से बाहर करते हुए अपने अपग्रेड टेंडर को रद्द कर दिया है। दूरसंचार विभाग (DoT) ने कुछ सप्ताह पहले इस कदम की सिफारिश की थी। सूत्र बताते हैं कि टेंडर के नए नियम जिनकी कीमत 7000-8000 करोड़ रुपए थी, सरकार द्वारा तय किए जाएंगे।

<

h3>DoT ने निविदा रद्द करने की सिफारिश की

<

h3>
सूत्रों ने बताया कि दूरसंचार विभाग ने चीनी कंपनियों को बीएसएनएल के 4 जी नेटवर्क अपग्रेडेशन टेंडर से बाहर रखने का फैसला किया है। सूत्रों का कहना है कि केंद्र सक्रिय रूप से निजी दूरसंचार कंपनियों को ‘चीन में बने उपकरणों’ पर अपनी निर्भरता को कम करने के लिए प्रोत्साहित करने के कदमों पर विचार कर रहा है। भारत ने कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर अपनी 5G नीलामी प्रक्रिया को अगले साल के लिए टाल दिया है।

BSNL/MTNL में चीनी उपकरण बैन

डीओटी ने प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) और गृह मंत्रालय (एमएचए) को एक रिपोर्ट सौंपी, जिसमें पुष्टि की गई कि उन्होंने बीएसएनएल और एमटीएनएल को चीनी कंपनियों से उपकरण खरीदने से रोक दिया है। यह भी कहा गया है कि यह 5G परीक्षणों में भाग लेने से ZTE और Huawei जैसे चीन के दूरसंचार गियर निर्माताओं को प्रतिबंधित करने का पक्षधर है। हालांकि घरेलू खिलाड़ियों को यह तय करने की स्वतंत्रता दी गई है कि वे चीनी गियरमेकर को आगे खरीदना चाहते हैं या नहीं।

भारत में चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध

यह कदम भारत द्वारा टिक-टॉक सहित 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने के दो दिन बाद आया है। केंद्र ने कहा है कि उसे विभिन्न स्रोतों से कई शिकायतें मिली हैं, जिनमें चोरी के लिए इन ऐप के दुरुपयोग और उपयोगकर्ताओं के डेटा को अनाधिकृत तरीके से उन सर्वरों में प्रसारित करने के बारे में कई रिपोर्टें शामिल हैं, जिनमें भारत से बाहर के स्थान हैं। इसलिए, भारतीय साइबरस्पेस की संप्रभुता की रक्षा करने और करोड़ों भारतीय मोबाइल उपयोगकर्ताओं के हितों को सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने यह कदम उठाया है।

चीनी सामान का बहिष्कार

LAC में 20 सैनिकों के शहीद होने के बाद राष्ट्रभर में कई समूहों ने चीनी सामानों की बिक्री का विरोध किया है। इसके अलावा भारत के डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉरपोरेशन (DFCCIL) – रेल मंत्रालय ने एक चीनी कंपनी के अनुबंध को समाप्त कर दिया है। बीसीसीआई ने भी चीनी कंपनियों से अपने प्रायोजन पर पुनर्विचार करने के लिए एक काउंसिल की बैठक बुलाई है। भारत को अधिक आत्मनिर्भर बनाने के लिए चीनी आयात को कम करने के लिए केंद्र ने भी कई कदम उठाए हैं। इनके अलावा हाल ही में चीनी फंडिंग वाली कई भारतीय कंपनियों को जनता का सामना करना पड़ा है, क्योंकि ‘चीनी सामानों पर प्रतिबंध’ की भावना मजबूत हो रही है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button