बसपा सुप्रीमो मायावती के नगीना सुरक्षित सीट से चुनाव लड़ने की संभावना खत्म

मायावती अब अंबेडकरनगर या फिर बिजनौर से लड़ सकती है चुनाव

नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है. जिसके बाद से ही आचार संहिता भी लागू हो गया है. आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर जहां पक्ष-विपक्ष पूरी ताकत के साथ रैली कर रहें हैं वहीं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती, ये दोनों बड़े नेता कहां से चुनाव लड़ेंगे. अभी भी असमंजस बना हुआ है.

चुनावी सरगर्मियां तेज होने के साथ ही ये अटकलें थीं कि बसपा अध्यक्ष नगीना सुरक्षित सीट से चुनाव लड़ सकती हैं. सूत्रों का कहना है कि लोकसभा चुनाव के लिए सपा-बसपा गठबंधन में बसपा को मिली सीटों के लिए प्रभारियों के नाम फाइनल हो गए हैं और नगीना से गिरीश चंद्र जाटव को चुनाव की तैयारी के लिए कह दिया गया है.

इन खबरों से ये अटकलें लगाई जा रही हैं कि बसपा सुप्रीमो मायावती अब अंबेडकरनगर या फिर बिजनौर में से किसी सीट पर चुनाव लड़ सकती हैं. साल 1989 में मायावती ने बिजनौर से चुनाव लड़ा था और यहां से सांसद बनकर संसद तक पहुंची थीं.

वहीं, पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय की पत्नी और पूर्व सांसद सीमा उपाध्याय ने फतेहपुर सीकरी से चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया है. जानकारी के मुताबिक, पार्टी उनसे फतेहपुर सीकरी से चुनाव की तैयारी करने को कहा गया था, लेकिन वह अलीगढ़ से टिकट मांग रही थीं.

पार्टी ने पिछले दिनों अलीगढ़ से अजीत बालियान को प्रभारी बनाने का एलान कर दिया. इसलिए ये कयास लगाए जा रहे हैं कि पार्टी अजीत बालियान को ही टिकट देगी. आपको बता दें कि बसपा प्रभारियों को ही प्रत्याशी घोषित करती आई है.

Back to top button