बड़ी खबरराष्ट्रीय

बुलेट प्रूफ जैकेट चीरती निकल गई गोली,ऐसे बची पुलिसकर्मी की जान

फिरोजाबाद : उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ उपद्रवियों ने ड्यूटी पर तैनात एक पुलिसकर्मी को गोली मार दी। गोली बुलेट प्रूफ जैकेट को चीरते हुए सीधे सीने की तरफ गई, लेकिन पुलिसकर्मी के शर्ट में रखे पर्स ने उसकी जान बचा ली। पढ़ें कैसे पर्स ने बचाई जान।

फिरोजाबाद में शनिवार को उपद्रवी प्रदर्शन कर रहे थे। उस दौरान वहां पर कांस्टबेल बिजेन्द्र कुमार तैनात थे। इस दौरान किसी ने उन पर गोली चला दी। बुलेट प्रूफ जैकेट पहनने के बावजूद गोली पार हो गई। बिजेन्द्र ने शर्ट की जेब में पर्स रखा था। गोली उसमें जाकर फंस गई और उनकी जान बच गई।

बिजेन्द्र कुमार ने बताया कि उनके पर्स में कुछ एटीएम और भगवान की तस्वीर थी। गोली सीधा पर्स में जाकर फंस गई। उन्होंने कहा पर्स में रखी भगवान की फोटो ने उनकी जान बचाई है। यह उनके लिए पुनर्जन्म जैसा है। यह गोली उपद्रवियों की तरफ से चलाई गई थी। राज्य के विभिन्न हिस्सों में छह पुलिसकर्मियों को गोली लगी है। एक घायल पुलिसकर्मी की हालत नाजुक है।

यूपी में अब तक 11 की मौत

उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शनों में कम से कम 11 लोगों की मौत हो गयी है जिनमें आठ साल का बच्चा भी शामिल है। अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि मेरठ जिले से चार लोगों की मौत की खबर है। कानपुर में दो लोगों की मौत हुई है। वाराणसी में प्रदर्शन के दौरान भगदड़ में आठ साल के एक बच्चे की मौत हो गयी।

फिरोजाबाद, भदोही, बहराइच, फर्रूखाबाद, गोरखपुर और संभल सहित लगभग 20 जिलों से हिंसा की खबरें हैं। हिंसा से प्रभावित अन्य जिले कानपुर, वाराणसी, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, बिजनौर, अमरोहा, हापुड, हाथरस, बुलंदशहर, हमीरपुर और महोबा हैं।

लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, आगरा, अलीगढ़, गाजियाबाद, वाराणसी, मथुरा, मेरठ, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, बरेली, फिरोजाबाद, पीलीभीत, रामपुर, सहारनपुर, शामली, संभल, अमरोहा, मऊ, आजमगढ और सुल्तानपुर सहित कई बड़े शहरों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गयीं । अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार को हिंसक भीड़ द्वारा पुलिस पर गोलियां चलाए जाने की भी खबरें हैं।

Tags
Back to top button