बिज़नेस

जापान में घोटाला, मोदी की बुलेट ट्रेन पर खतरा?

तोक्यो: कोबी स्टील लिमिटेड के फेक डेटा स्कैंडल ने पूरे जापान को हिला दिया है। स्टील निर्माता ने बुलेट ट्रेनों के लिए जिन कल-पुर्जों की सप्लाई की, वे घटिया पाए गए हैं।

हालांकि सुरक्षा के लिए कोई खतरा नहीं है लेकिन हाई स्पीड शिंकानसेन ट्रेनों को चलाने वाली दो कंपनियों ने कहा है कि कोबी स्टील के कल-पुर्जे जापान के औद्योगिक मानकों पर नाकाम रहे हैं।

बता दें कि मुंबई से अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन प्रॉजेक्ट को जापान की मदद से ही बनाया जा रहा है और इस स्कैंडल से इसका काम प्रभावित हो सकता है।

112 साल पुरानी दिग्गज स्टील कंपनी के सीईओ ने घटिया कल पुर्जों की सप्लाई के लिए माफी मांगी है। कोबी ने न सिर्फ बुलेट ट्रेन बल्कि कार से लेकर डीवीडी तक जैसी चीजों के लिए घटिया कल-पुर्जों की आपूर्ति की है।

इस घोटाले की वजह से कंपनी के मार्केट वैल्यू में एक तिहाई की तेज गिरावट आई है जिससे कंपनी के बैठ जाने की अटकलों को बल मिला है।

जापान के मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर को हिला देने वाले इस घोटाले के बारे में रविवार को पता चला। जापान के तीसरे सबसे बड़े स्टील निर्माता ने स्वीकार किया कि उसने कुछ ऐल्युमिनियम और कॉपर के प्रॉडक्ट्स की ताकत और टिकाऊपन के बारे में झूठे दावे और फर्जी आंकड़े पेश किए थे।

कोबी स्टील लिमिटेड टोयोटा मोटर से लेकर जनरल मोटर्स जैसे दिग्गजों के लिए स्टील और जरूरी धातुओं की सप्लाई करती है। अब ये कंपनियां भी इस बात की जांच कर रही हैं कि कहीं संदिग्ध मटिरिअल की वजह से कारों, ट्रेनों और हवाई जहाज की सुरक्षा के साथ समझौता तो नहीं हुआ है।

कोबी स्टील ने कहा है कि 2 और उत्पाद भी प्रभावित हो सकते हैं और आगे चलकर कुछ और मामले भी सामने आ सकते हैं। हालांकि किसी प्रॉडक्ट को रिकॉल करने या सुरक्षा को लेकर चिंता उठने की कोई रिपोर्ट नहीं आई है।

कोबी स्टील के सीईओ हिरोया कावासाकी ने गुरुवार को सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक में कहा, ‘सभी यूजर्स और उपभोक्ताओं समेत तमाम लोगों की चिंता बढ़ी, इसके लिए मैं माफी मांगता हूं।’

उन्होंने कहा कि कंपनी में लोगों का विश्वास खत्म हो गया है और वह इसकी प्रतिष्ठा को फिर से स्थापित करने के लिए काम करेंगे। उन्होंने कहा, ‘सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।’

पिछले 2 दिनों में कंपनी के शेयरों में 36 प्रतिशत की गिरावट के बाद गुरुवार को 0.5 प्रतिशत का मामूली सुधार दिखा। धांधली के खुलासे के बाद कोबी स्टील की मार्केट वैल्यू में 1.6 अरब डॉलर (करीब 96 अरब रुपये) की कमी आई है। कंपनी के शेयर पूरी तरह धड़ाम हो चुके हैं।

कोबी स्टील के सभी 4 स्थानीय ऐल्युमिनियम प्लांटों में आंकड़ों में बड़े पैमाने पर हेरफेर किया गया है। आंकड़ों के साथ इस खेल का सिलसिला तो कुछ प्रॉडक्ट्स के लिए 10 साल से ज्यादा वक्त से चल रहा था।

कंपनी ने स्वीकार किया कि आयरन ओर पावडर और डीवीडी व एलसीडी स्क्रीन्स में इस्तेमाल होने वाले टारगेट मटिरिअल का डेटा भी फेक था।

तोक्यो और ओसाका के बीच बुलेट ट्रेन का संचालन करने वाली सेंट्रल जापान रेलवे कंपनी ने कहा है कि ट्रेन के पहियों में इस्तेमाल हुए ऐल्युमिनियम के कल-पुर्जे जापानी उद्योग के मानकों के अनुरूप नहीं हैं।

कंपनी के प्रवक्ता हारुहिको तोमिकुबो ने बताया कि जिन कल-पुर्जों की जांच हुई है उनमें 310 की गुणवत्ता घटिया पाई गई है और उन्हें बदला जाएगा।

कोबी स्टील के सीईओ कावासाकी ने बताया कि कंपनी ने जिन 200 कंपनियों को प्रभावित सामानों की आपूर्ति किया है उनमें से करीब 100 कंपनियों की सप्लाई की जांच पूरी हो चुकी है।

उन्होंने कहा कि कंपनी करीब 2 हफ्तों में सेफ्टी जांच के नतीजों को जारी करेगी और एक महीने के भीतर सुधार वाली कार्रवाइयों को अंजाम देगी।

Summary
Review Date
Reviewed Item
बुलेट ट्रेन
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *