टेक्नोलॉजी

फेसबुक पर दीवाली शॉपिंग की फोटो डालने जा रहे हैं तो हो जाएं सावधान

नई दिल्ली: दीवाली शॉपिंग की और सोशल मीडिया पर फोटो पोस्ट नहीं की ऐसा तो हो ही नहीं सकता… लेकिन यही फोटो आपको फंसा सकती है. जी हां, शॉपिंग करते वक्त अगर आप फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड कर रहे हैं तो सावधान हो जाइए. क्योंकि आपकी हर एक शॉपिंग फोटो पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नजर है. महंगी कार, महंगी घड़ी या इस तरह के दूसरे लग्जरी आइटम की फोटो पोस्ट कर आप फंस सकते हैं.

कैसे फंस सकते हैं आप

असल में ब्लैकमनी पर नजर रखने के क्रम में सरकार इस महीने ‘प्रोजेक्ट इनसाइट’ लॉन्च करने वाली है. इसके तहत ऐसे लोगों के सोशल मीडिया अकाउंट पर नजर रखी जाएगी, जो महंगी चीजें खरीदते हैं, लेकिन उनकी जानकारी विभाग को देने से बचते हैं.

प्रोजेक्ट के तहत एक ऐसा वर्चुअल हाउस बनायी जाएगी, जिसके जरिए लोगों की खर्च करने की सीमा को बैंक अकाउंट के साथ-साथ सोशल मीडिया जैसे कि फेसबुक, इंस्टाग्राम से मैच किया जाएगा. अगर किसी भी तरह का मिसमैच इन डिटेल्स में दिखेगा तो फिर आपसे पूछताछ हो सकती है.

दिवाली के मौके पर अगर आपने लग्जरी प्रोडक्ट खरीदे हैं और इसके साथ अपनी फोटो शेयर की तो प्रोजेक्ट इनसाइट के जरिए आप सरकार की नजरों में आ जाएंगे. आप चाहे इनकम टैक्स के दायरे में आते हों या नहीं.

इसके बाद इनकम टैकस डिपार्टमेंट आपको पूछताछ के लिए तलब कर सकता है. आपसे पूछा जा सकता है कि इसे खरीदने के लिए आपने किस तरह से पैसे जुटाए.

पिछले साल ही टैक्‍स डिपार्टमेंट ने एलएंडटी इंफोटेक के साथ प्रोजेक्‍ट इनसाइट के क्रियान्‍वयन के लिए एक करार किया था. इसका मकसद कर चोरी पर लगाम लगाकर लोगों की आदतें सुधारना है.

पिछले महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इनकम टैक्‍स विभाग को टेक्‍नोलॉजी का अधिक उपयोग करके कर चोरी पर लगाम लगाने की सलाह दी थी. सरकार का मकसद इस प्रोजेक्ट के जरिए विश्व का सबसे बड़ा बॉयोमेट्रिक डाटाबेस तैयार कर रही है.

इस डाटाबेस से इनकम टैक्स, ईडी, बैंक, एनआईए को भी टैक्स चोरी रोकने में मदद मिलेगी. सरकार का मानना है कि काफी लोग अभी भी अपनी कमाई की सही तरह से जानकारी नहीं दे रहे हैं. वहीं लोग अपने घूमने-फिरने, घर-बाइक, कार खरीदने पर सबसे पहले सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हैं, जिससे अन्य लोगों को पता चल सके.

 

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.