सरदार वल्लभ भाई पटेल से जिन्ना की तुलना कर अखिलेश ने देश व राष्ट्रीयता का अपमान किया

लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रमुख स्वतंत्र देव ंिसह ने समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना संबंधी बयान पर सोमवार को तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की और कहा कि भारत को अखंडता के सूत्र में बांधने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल से देश को तोड़ने वाले व्यक्ति (जिन्ना) की तुलना करना देश व राष्ट्रीयता का अपमान है।

ंिसह ने सोमवार को पीटीआई-भाषा से बातचीत में सपा अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, ”अखिलेश यादव देशद्रोहियों और देश तोड़ने वालों के साथ खड़े हैं। भारत को अखंडता के सूत्र में बांधने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल से देश को तोड़ने वाले जिन्ना की तुलना करना देश व राष्ट्रीयता का अपमान है। इससे प्रर्दिशत होता है कि सपा और उसके अध्यक्ष देशद्रोहियों के साथ खड़े हैं।” उल्लेखनीय है कि अखिलेश ने रविवार को हरदोई में एक जनसभा में जिन्ना द्वारा भारत की आजादी में दिये गये योगदान की सराहना की थी।

सपा अध्यक्ष ने कहा था, ‘’सरदार वल्लभ भाई पटेल, महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और (मोहम्मद अली) जिन्ना ने एक ही संस्थान से पढ़ाई की और बैरिस्टर बने तथा उन्होंने (देश को) आजादी दिलाई। वे देश की आजादी के लिए किसी भी तरीके से संघर्ष करने से पीछे नहीं हटे।”

इस पर, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ”सपा हमेशा से ही आतंकियों और देशद्रोहियों की सरपरस्त रही है। सपा प्रमुख (अखिलेश यादव) ने राज्य की सत्ता में रहने के दौरान देश को असुरक्षित करने की साजिश रचने वाले आतंकवादियों के मुकदमे वापस लेने का प्रयास किया था।”
ंिसह ने कहा कि जिन्ना का समर्थन इस देश की एकता के लिए अपना बलिदान देने वाले हर स्वतंत्रता सेनानी, सैनिक और राष्ट्रभक्त का अपमान है। उन्होंने आरोप लगाया, ”सपा व कुछ विपक्षी दलों को तुष्टिकरण की राजनीति के लिए देश व प्रदेश की सुरक्षा और गौरव के साथ खिलवाड़ करने से भी कोई गुरेज नहीं है।” बाद में ंिसह ने जिन्ना-प्रेमी-अखिलेश हैश टैग के साथ ट्वीट किया, ‘‘जिन्ना के प्रति इतना प्यार देख कर ऐसा लग रहा है कि भारत-पाकिस्तान मैच के बाद एक-दो फुलझड़ी आपने भी जला ली होगीङ्घ।’’

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button