उपचुनाव : BJP ने गोरखपुर से उपेंद्र शुक्ला और फूलपुर से केएस पटेल को बनाया उम्मीदवार

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट पर उप चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है।

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट पर उप चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। भाजपा ने गोरखपुर से उपेंद्र शुक्ला और फूलपुर से केएस पटेल को अपना उम्मीदवार बनाया है।

लोकसभा की इन दोनों सीटों पर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार पहले ही घोषित कर दिए हैं। लोकसभा की ये दोनों सीटें भाजपा के पास थीं। गोरखपुर की सीट योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने और फूलपुर की सीट केशव प्रसाद मौर्य के उप मुख्यमंत्री बनने के बाद खाली हुई है।

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

बता दें कि गोरखपुर की सीट भाजपा के लिए काफी अहम है। योगी आदित्यनाथ यहां से लागातार लोकसभा पहुंचते रहे हैं। बताया जा रहा है कि उपेंद्र शुक्ला गृह मंत्री राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ के करीबी हैं। समाजवादी पार्टी ने यहां से प्रवीण कुमार निषाद को अपना उम्मीदवार बनाया है।

प्रवीण कुमार निषाद समाजवादी पार्टी को समर्थन देने की घोषणा करने वाली निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद के पुत्र हैं। जबकि कांग्रेस ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कर्मभूमि गोरखपुर से महिला चिकित्सक डॉ. सुरहिता करीम पर दांव खेला है। डॉ. सुरहिता करीम इससे पहले गोरखपुर में 2012 में मेयर का चुनाव लड़ी थीं।

फूलपुर से भाजपा के उम्मीदवार केएस पटेल के मुकाबले में सपा ने नागेन्द्र प्रताप सिंह पटेल और कांग्रेस ने मनीष मिश्र पर दांव खेला है। गोरखपुर और फूलपुर दोनों सीटों पर 11 मार्च को मतदान होगा 14 मार्च को नतीजे आएंगे।

राज्य में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के लिए गोरखपुर लोकसभा सीट प्रतिष्ठा का सवाल है क्योंकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस सीट पर पांच बार जीत हासिल कर चुके हैं। योगी के पहले उनके गुरु मंहत अवैद्यनाथ इस सीट पर तीन बार लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं।

दूसरी तरफ है फूलपुर लोकसभा सीट जो कभी कांग्रेस का गढ़ हुआ करती थी। पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू इस सीट पर पार्टी का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। इस सीट पर पहली बार भाजपा ने 2014 में जीत दर्ज की थी और केशव प्रसाद मौर्य ने यहां पार्टी का भगवा झंडा लहराया था।

Back to top button