मध्यप्रदेशराज्य

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक संपन्न

ज्योतिरादित्य सिंधिया को सबसे ज्यादा महत्व दिया गया

भोपाल: मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान कैबिनेट का गुरुवार को विस्तार तो किया गया, लेकिन नए मंत्रियो को देखकर लगता है बीजेपी का सबसे ज्यादा ध्यान प्रदेश में होने वाले उपचुनावों पर है।

उपचुनावों में ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने की रणनीति के तहत ज्योतिरादित्य सिंधिया को सबसे ज्यादा महत्व दिया गया है जबकि बीजेपी के अपने पुराने नेताओं को कैबिनेट में कम भागीदारी से संतोष करना पड़ा है।

वहीँ मंत्रिमंडल की बैठक संपन्न हुई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बैठक में मौजिद रहे। बैठक में नवनियुक्त मंत्रियों को मुख्यमंत्री ने सलाह दी कि कोरोना काल को देखते हुए स्वागत सत्कार से दूर रहें।

हम यहां मुख्यमंत्री द्वारा मंत्रियों को दिए गए भाषण के बिंदु दे रहे हैं:

सभी को बधाई जिन्होंने आज शपथ ली.

वक्रतुंड महाकाय, पूरा श्लोक पढ़कर कहा कि यहां से जो काम प्रदेश की भलाई के लिए हो वो निर्विध्न पूरे हो.

परिश्रम की पराकाष्ठा करना होगा.

एके भी क्षण व्यर्थ न हो, क्योंकि अब जो क्षण है वो जनता के है.

आप सब यह तय करे कि कोई भी स्वागत न कराए.

कोरोना काल चल रहा है , इसलिए स्वागत न करे, भीड़ न करे.

न मैं चैन से बैठूंगा और न आप लोगो को बैठने दूंगा.

यह कैबिनेट एक परिवार है , पहले भी कैबिनेट परिवार थी, सरकार भी परिवार की तरह चलाई है.

पारदर्शी प्रमाणिकता से काम हो.

आप लोग काम बहुत करे , तनाव बिलकुल न ले.

जहां चाह वहां राह होती है.

दो दिन भोपाल के लिए रखे, सोमवार मंगलवार उपयुक्त रहेगा.

सोमवार को विभाग की समीक्षा करें, मंगलवार को कैबिनेट रहेगी.

दिनचर्या और व्यवस्था ऐसी रहे कि काम को और कार्यकर्ताओं के लिए पर्याप्त समय रहे.

कोरोना को लेकर चर्चा चल रही है.

जब हम आये तब स्थिति चिंता जनक थी.

कोरोना में हम चौथे स्थान पर थे, अब 13 वे स्थान पर आ गए.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button