मंत्रिमंडल में फेरबदल या मंत्री हटाना या बनाना मुुख्यमंत्री का विशेषाधिकार: डॉ.टेकाम

व्यवसाय के रूप में लिए जाने के सवाल पर भड़क गए स्कूल शिक्षा मंत्री

बिलासपुर: रायपुर से कोरबा जाते वक्त कुछ देर के लिए छत्तीसगढ़ भवन में स्र्के स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ.प्रेमसाय सिंह टेकाम ने पत्रकारों से चर्चा भी की। इस दौरान स्थानांतरण आदेश को व्यवसाय के रूप में लिए जाने के सवाल पर वह भड़क गए।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने दोटूक कहा कि शिक्षा विभाग के अलावा किसी भी विभाग में स्थानांतरण के नाम पर न तो उद्योग चलाया जा रहा है और न ही किसी की दुकानदारी ही चल रही है। सब कुछ नियम और प्रक्रिया के तहत किया जा रहा है।

एक पद के लिए तीन-तीन शिक्षकों का तबादला कर दिया गया है। यह मानवीय भूल तो हो नहीं सकती। जानबूझकर जारी किया गया आदेश तो नहीं। यह सुनते ही स्कूल शिक्षा मंत्री का मंुह बिगड़ गया। फिर वे बोले।

शिक्षक स्थानांतरण चाह रहे थे। इसलिए आदेश जारी किया गया है। वैसे भी यह सारी परेशानी पूर्ववर्ती भाजपा सरकार की देन है। 15 साल के अतिरिक्त दबाव को अब जाकर कम करने की कोशिश शुरू हुई है। जल्द सब-कुछ ठीक कर लेंगे ।

उन्होंने कहा मंत्रिमंडल में फेरबदल या मंत्री हटाना या बनाना मुुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है। स्कूल शिक्षा विभाग में किए गए तबादले को लेकर उनके ओएसडी पर कार्रवाई की गाज भी गिरी और शासन के निर्देश पर हटा दिए गए है। जैसे सवाल का वे जवाब नहीं दे पाए । दो-दो ओएसडी को इतनी जल्दी क्यों हटाना पड़ा ।

कहीं स्थानांतरण आदेश तो कारण नहीं है। स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि किसको रखना है या किसको हटाना है इसका फैसला शासन स्तर पर होता है। किसी एक व्यक्ति की नहीं चलती । सरकारी कामकाज को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए अनुभवी और जानकार लोगों की जरूरत पड़ती है।

Back to top button