शारदा चिटफंड घोटाले की आरोपी देबयानी मुखर्जी को कलकत्ता हाईकोर्ट ने दी जमानत

कलकत्ता हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बावजूद देबयानी अभी जेल से रिहा नहीं हो पाएंगे

नई दिल्ली:शारदा चिटफंड घोटाला मामले में 2013 में कश्मीर के सोनमर्ग से गिरफ्तार देबयानी मुखर्जी को कलकत्ता हाईकोर्ट से राहत मिली है लेकिन कलकत्ता हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बावजूद देबयानी अभी जेल से रिहा नहीं हो पाएंगे.

वो इसलिए क्योंकि उनके खिलाफ इस घोटाले से जुड़े कई केस झारखंड और ओड़िशा में भी दर्ज हैं और उन मामलों में उन्हें जमानत नहीं मिली है. इस लिए उन्हें अभी अलीपुर के महिला सुधार गृह में ही रखा जाएगा.

इस घोटाले में देबयानी मुखर्जी को शारदा ग्रुप के प्रमोटर सुदीप्त सेन के साथ सह आरोपी बनाया गया था. शारदा कंपनी के प्रमोटर सुदीप्त सेन और देबयानी मुखर्जी को 2013 में कश्मीर के सोनमर्ग से गिरफ्तार किया गया था.

शारदा कंपनी ने बंगाल में कई पोंजी स्कीम्स चलाई थीं, जिसमें कथित तौर पर लाखों लोगों के साथ फ्रॉड किया गया. साल 2013 में जब भंडाफोड़ हुआ तो लोगों के हजारों-करोड़ों रुपये डूब गए थे.

शारदा चिटफंड घोटाले की जांच सीबीआई कर रही है. पिछले साल दिसंबर में इस घोटाले के तार सीएम रिलीफ फंड से भी जुड़े होने का दावा किया था. सीबीआई ने दावा किया था कि सीएम रिलीफ फंड से करीब 6.21 करोड़ तारा टीवी को दिए गए थे, जो शारदा ग्रुप की ही एक कंपनी है. इन पैसों का इस्तेमाल कर्मचारियों को सैलरी देने के लिए किया गया था. सीबीआई ने इस पूरे घोटाले में बड़े लोगों के नाम शामिल होने का दावा किया है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button