छत्तीसगढ़

किसानों को शासकीय योजनाओं का लाभ देने चलाये अभियान-कलेक्टर भीम सिंह

जिला स्तरीय परामर्शदात्री (डीएलसीसी) एवं पुनरीक्षा समिति (डीएलआरसी) की बैठक संपन्न

रायगढ़, 1 जुलाई 2020: कलेक्टर भीम सिंह की अध्यक्षता में आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में किसानों के लिये मार्गदर्शी बैंक योजना अंतर्गत जिला स्तरीय परामर्शदात्री एवं पुनरीक्षा समिति की बैठक संपन्न हुई।

बैठक में कलेक्टर सिंह ने बैंक अधिकारियों से कहा कि किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार और किसानों को आत्मनिर्भर बनाने वाली शासन द्वारा जारी निर्देश और रिजर्व बैंक की गाइड लाइन के अनुसार अधिक से अधिक संख्या में किसानों को ऋण स्वीकृत करने के लिए कहा।

किसानों को बीज खाद क्रय करने के लिए समय-सीमा में लोन की आवश्यकता होती है, अत: लोन के प्रकरण अमान्य नहीं किया जाना चाहिये। उन्होंने आगे कहा कि राज्य सरकार के निर्देश पर सभी ग्राम पंचायतों में गौठान और चारागाह का निर्माण किया जा रहा है इन गौठानों में किसान समितियों द्वारा मछली पालन, मुर्गी पालन, सब्जी दुकानें जैसे छोटे-छोटे व्यवसायिक कार्य किये जायेेंगे अत: बैंक किसानों को लोन प्रदाय करेंगे तो गरीब किसान भी अपनी मेहनत से आर्थिक रूप से सुदृढ़ तथा आत्मनिर्भर बन सकता है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना

कलेक्टर सिंह ने पशुपालन, मत्स्य पालन तथा कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि किसानों की नजदीकी बैंक शाखाओं से समन्वय स्थापित कर अधिक से अधिक किसानों को लोन स्वीकृत करावे। उन्होंने सभी किसानों के लिए किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने और प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ दिलाने के लिये अभियान चलाकर सभी पात्र किसानों को लाभान्वित किये जाने के निर्देश दिये।

कलेक्टर सिंह ने कहा कि भारतीय स्टेट बैंक लीड एजेंसी के कार्य करता है अत: किसानों के प्रति सबसे अधिक जिम्मेदारी भारतीय स्टेट बैंक की ही है।

कलेक्टर सिंह ने जिले के शत-प्रतिशत किसानों को फसल बीमा योजना के अंतर्गत फसलों का बीमा कराये जाने के निर्देश दिये। किसानों को फसल बीमा कराने का हक है और किसान जो बीमा प्रीमियम जमा करते है। उसी राशि में से प्रभावित किसानों को फसल नुकसान की स्थिति में बीमा भुगतान किया जाता है।

बैठक में जिला पंचायत सीईओ ऋचा प्रकाश चौधरी सहित सभी बैंकों के प्रतिनिधि, फसल बीमा करने वाली बीमा कंपनी के प्रतिनिधि तथा संबंधित बैंकों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button