राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा जुटाने का अभियान शुक्रवार से

विहिप दिल्ली प्रांत के प्रचार प्रसार प्रमुख महेंद्र रावत ने गुरुवार को यह जानकारी दी है।

नई दिल्ली । अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर बनने वाले भव्य मंदिर निर्माण के निमित्त देशभर के राम भक्तों का सहयोग लेने के लिए शुक्रवार (15 जनवरी) से निधि समर्पण अभियान का शुभारंभ देश के प्रथम नागरिक यानी राष्ट्रपति के समर्पण निधि के साथ होगा।

इसके लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष गोविंद देव गिरि, विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के केंद्रीय कार्याध्यक्ष अलोक कुमार, राममंदिर भवन निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ दिल्ली प्रांत के संघचालक कुलभूषण आहूजा; राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से पूर्वाह्न 11 बजे मुलाकात करेंगे। विहिप दिल्ली प्रांत के प्रचार प्रसार प्रमुख महेंद्र रावत ने गुरुवार को यह जानकारी दी है।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के मुताबिक मकर संक्रांति (15 जनवरी) से शुरू होकर माघ पूर्णिमा (27 फरवरी) तक चलने वाले इस अभियान के दौरान विहिप और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लाखों कार्यकर्ता देशभर के 11 करोड़ परिवारों से संपर्क करेंगे। निधि समर्पण अभियान में पारदर्शिता बनाए रखने के लिए ट्रस्ट ने 10 रुपये, 100 रुपए और 1000 रुपये के कूपन जारी किये हैं। एक हजार से अधिक की राशि रसीद के माध्यम से स्वीकार की जाएगी, जबकि 20 हजार से अधिक की राशि अकाउंट पेई चेक या ऑनलाइन ट्रांसफर द्वारा स्वीकार की जाएगी। कूपन और रसीद पर ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष गोविंददेव गिरि के हस्ताक्षर हैं। इसमें भगवान राम की एक हाथ में धनुष लिये और दूसरे हाथ से आशीर्वाद देती आदमकद तस्वीर, राम मंदिर का मॉडल एवं ट्रस्ट का लोगो भी छपा है।

महेंद्र रावत के मुताबिक इस अभियान के माध्यम से करोड़ों रामभक्तों का डाटा भी तैयार किया जाएगा। रसीद और कूपन देने के साथ समर्पणकर्ता का नाम, पता एवं मोबाइल नंबर संग्रहित किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि सोमनाथ मंदिर के जीर्णोद्धार में प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद शामिल हुए थे। 11 मई, 1951 को डॉ. राजेंद्र प्रसाद की उपस्थिति में मंदिर में ज्योतिर्लिंग स्थापित किया गया था।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button