भारत विरोधी बयान से कनाडा में गरमाई राजनीति, अपने ही देश में घिरे ट्रूडो

टोरंटो: कनाडा के प्रधानमंत्री ट्रूडो के दिल्ली दौरे के दौरान डिनर पार्टी में खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल को न्यौता देने के मामले में ट्रूडो की पलटी से कनाडा की राजनीति गरमा गई है। ऐसे में वहां की विपक्षी पार्टी ने भारत की एकता का समर्थन करने और खालिस्तानी अलगाववाद की निंदा करने का प्रस्ताव पेश किया है जिससे ट्रूडो अपने ही देश में घिर गए हैं।

टोरंटो: कनाडा के प्रधानमंत्री ट्रूडो के दिल्ली दौरे के दौरान डिनर पार्टी में खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल को न्यौता देने के मामले में ट्रूडो की पलटी से कनाडा की राजनीति गरमा गई है। ऐसे में वहां की विपक्षी पार्टी ने भारत की एकता का समर्थन करने और खालिस्तानी अलगाववाद की निंदा करने का प्रस्ताव पेश किया है जिससे ट्रूडो अपने ही देश में घिर गए हैं।

उल्लेखनीय है कि ट्रूडो के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने आरोप लगाया था कि ट्रूडो की भारत यात्रा को विवादों में डालने के लिए ‘भारत के किसी तत्व’ ने अटवाल को न्यौता दिया था। इसके बाद मंगलवार को कनाडा की संसद में यह मामला एक प्रमुख मुद्दा बन गया।

जहां भारत ने इन आरोपों को ‘अस्वीकार्य और निराधार’ बताया है वहीं विपक्षी कन्जर्वेटिव पार्टी ने ट्रूडो से भारत के खंडन का जवाब देने के लिए कहा है। ट्रूडो ने अपने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार द्वारा भारत पर लगाए गए आरोपों का बचाव किया और कहा कि जब हमारे उच्च राजनयिक और सुरक्षा अधिकारी कनाडा के लोगों से कुछ कहते हैं तो इसका मतलब है कि वे जानते हैं कि यही सच है।

Back to top button