छत्तीसगढ़

आरक्षक भर्ती निरस्त होने से अभ्यर्थियों को दुखी होने की जरूरत नहीं: डीजीपी

जल्द ही पुलिस मुख्यालय शुरू करने जा रहा भर्ती अभियान

रायपुर: डीजीपी डीएम अवस्थी ने गृह मंत्री की नाराजगी की खबर को सिरे से खारिज करते हुए इसे बेतुका बताते हुए कहा कि आरक्षक भर्ती निरस्त होने से अभ्यर्थियों को दुखी होने की जरूरत नहीं है। जल्द ही पुलिस मुख्यालय भर्ती अभियान शुरू करने जा रहा है। अब पिछले बार भी से अधिक याने तीन हजार पदों पर भर्ती होगी।

उन्होंने प्रतिप्रश्न किया कि क्या बिना विभागीय मंत्री के नोटिस में आए ऐसा संभव है क्या। डीजीपी ने कहा कि वे गृह मंत्री से खुद ही मिलने गए थे कि आगे इस बारे में क्या करना है। भाजपा शासनकाल में 2259 पदों की भर्ती को निरस्त करने के फ़ैसले को लेकर सूबे के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने विस्तार से जानकारी ली।

डीजीपी ने कहा कि पिछली भरती में प्रक्रियागत इतनी खामियां थी कि रिजल्ट निकाल भी देते तो अभ्यर्थियों को कोर्ट-कचहरी के चक्कर लगाने पड़ते। इसीलिए, इसे निरस्त करना ही मुनासिब समझा गया।

उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार भर्ती प्रक्रिया में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी हुई थी। इस गड़बड़ी में दौड़ समेत कई मानकों में गड़बड़ी किए जाने की ख़बरें आई थीं। प्रदेश के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू से मुलाकात के बाद डीजीपी डीएम अवस्थी ने एनपीजी से कहा “बहुत ही जल्द नए नियमों के साथ भर्ती होगी, जो प्रक्रिया अपनाई गई थी, उसे लेकर विधि विभाग ने आपत्ति की थी”।

बताते हैं, नियमों की अवहेलना करते हुए बगैर नोटिफिकेशन के भर्ती प्रक्रिया शुरु की गई थी, और इन स्थिति में यह पूरी संभावना थी कि, मामला कोर्ट तक जाता, और तब किरकिरी ज्यादा होती, नतीजतन भर्ती रद्द कर दी गई।

Tags
Back to top button