खेल

मनप्रीत का दावा : विश्व के किसी भी टीम को हराने में सक्षम

स्टार मिडफील्डर मनप्रीत सिंह ने कहा कि भारतीय टीम दुनिया की किसी भी टीम को हराने में सक्षम

नई दिल्लीः स्टार मिडफील्डर मनप्रीत सिंह ने आज यहां कहा कि भारतीय टीम दुनिया की किसी भी टीम को हराने में सक्षम है वादा किया कि आगामी राष्ट्रमंडल खेलों में टीम पदक जरूर जीतेगी। पच्चीस वर्षीय मनप्रीत ने कहा कि राष्ट्रमंडल खेलों में हाकी प्रतियोगिता का स्तर काफी बेहतर है क्योंकि इसमें कई चोटी की टीमें भाग लेती हैं तथा उनकी टीम को पदक जीतने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा।

उन्होंने कहा कि भारतीय टीम ने ग्लास्गो में स्वर्ण पदक जीतने के बाद काफी सुधार किया है। मनप्रीत ने कहा, ‘‘हम राष्ट्रमंडल खेलों में किसी भी टीम को कम करके नहीं आंक सकते जहां प्रतिस्पर्धा काफी कड़ी है। वहां आस्ट्रेलिया, ग्रेट ब्रिटेन, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका और अन्य टीमें हिस्सा लेंगी। पिछली बार हम आस्ट्रेलिया से हार गए थे हमें रजत पदक से संतोष करना पड़ा था। इस बार हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे और उम्मीद है कि पदक जीतेंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ग्लास्गो (2014) के बाद हमने काफी सुधार किया है। हमने दुनिया की सभी चोटी की टीमों को हराया है। हम किसी भी टीम को हरा सकते हैं।’’ कुआलालम्पुर में 1998 में हाकी को राष्ट्रमंडल खेलों में शामिल किए जाने के बाद से आस्ट्रेलिया ने सभी स्वर्ण पदक जीते हैं। पूर्व में टीम की अगुवाई कर चुके मनप्रीत उन खिलाडिय़ों में शामिल हैं जिन्हें चार से 15 अप्रैल के बीच आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के मद्देनजर तीन से दस मार्च तक होने वाले सुल्तान अजलन शाह टूर्नामेंट से विश्राम दिया गया है।

मनप्रीत ने राष्ट्रमंडल खेलों के लिए प्रायोजकों की घोषणा से संबंधित कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं प्रत्येक मैच और टूर्नामेंट में खेलना चाहता हूं और प्रत्येक खिलाड़ी ऐसा चाहता है। लेकिन यह कोच का फैसला है और उन्होंने सुल्तान अजलन शाह से मुझे विश्राम दिया है। मैं इससे खुश हूं। यह मेरे भले के लिये हो सकता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह साल काफी महत्वपूर्ण है। हमें राष्ट्रमंडल खेलों, एशियाई खेलों और विश्व कप में भाग लेना है। अगर हम राष्ट्रमंडल खेलों में अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो इससे वर्ष के बाकी टूर्नामेंट के लिए हमारा मनोबल बढ़ेगा।’’

मनप्रीत ने कहा, ‘‘टीम के अंदर काफी प्रतिस्पर्धा है और मेरा मानना है कि यह टीम के लिए अच्छा है।’’ उन्होंने कहा कि टीम अभी पेनल्टी कार्नर को गोल में बदलने और रक्षापंक्ति पर ज्यादा ध्यान दे रही है। मनप्रीत ने कहा, ‘‘हम पेनल्टी कार्नर पर अधिक गोल करना चाहते हैं।

इसके अलावा हम चाहते हैं कि विरोधी टीम को कम से कम पेनल्टी कार्नर मिलें और इसके लिए हम अपनी रक्षापंक्ति को मजबूत कर रहे हैं।’’ डिफेंडर रूपिंदर पाल सिंह ने कहा कि भारतीय टीम के पास इस समय स्वर्ण पदक जीतने का सुनहरा मौका है।

रूपिंदर ने कहा, ‘‘जब हमारा दिन हो तो हम आस्ट्रेलिया सहित किसी भी टीम को हरा सकते हैं। हम स्वर्ण पदक जीतना चाहते हैं। मुझे लगता है कि हमारी आस्ट्रेलिया को हराकर इस बार स्वर्ण पदक जीतने की बहुत अच्छी संभावना है।’’

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *