उत्तर प्रदेशराज्य

छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ जबरन वसूली और भ्रष्टाचार का मामला दर्ज

एक पुलिसकर्मी को एक अन्य व्यक्ति के साथ गिरफ्तार किया गया

लखनऊ:उत्तर प्रदेश में जबरन वसूली और भ्रष्टाचार के मामले में छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज कर एक पुलिसकर्मी को एक अन्य व्यक्ति के साथ गिरफ्तार किया गया है.

नोएडा में पुलिस उपायुक्त (जोन द्वितीय) हरीश चंद्र ने कहा, ”कांस्टेबल नितिन चौधरी और सोनू नामक एक अन्य व्यक्ति को जबरन वसूली और भ्रष्टाचार के मामले में आज गिरफ्तार किया गया.”

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस मामले में एक उपनिरीक्षक सहित पांच पुलिसकर्मी फरार हैं. उनकी तलाश की जा रही है. सभी आरोपी पुलिसकर्मी लखनऊ से संचालित नोएडा के सेक्टर 36 में स्थित साइबर क्राइम थाने में तैनात हैं. चंद्र ने बताया कि नोएडा पुलिस को रविवार को कुछ लोगों के ”अपहरण” की जानकारी मिली थी, जिसके बाद एक स्थानीय पुलिस दल ने जांच आरंभ की.

‘कांस्टेबल नितिन चौधरी ने और धन की मांग की’

उन्होंने बताया कि यह पता चला कि कुछ पुलिसकर्मी एक मामले की जांच कर रहे थे और उन्होंने नोएडा सेक्टर 65 में स्थित एक निजी कंपनी के तीन कर्मियों को ”उठा” लिया था. अधिकारी ने कहा, ”इन लोगों को दो लाख रुपए के एवज में छोड़ दिया गया था, लेकिन कांस्टेबल नितिन चौधरी ने और धन की मांग की.”

सोनू रविवार को और रकम लेने पहुंचा, लेकिन तभी पुलिस ने उसे नोएडा स्टेडियम के पास गिरफ्तार कर लिया. उन्होंने बताया कि माजू चौहान नामक व्यक्ति की ‘बंधन फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड’ के नाम से सेक्टर 65 में एक कंपनी है.

‘छोड़ने के एवज में सात लाख रुपए की मांग’

अधिकारी ने कहा, ”पीड़ित के अनुसार 10 फरवरी को सादे कपड़ों में आधा दर्जन पुलिसकर्मी उसकी कंपनी में आए और कंपनी में काम करने वाले वसीम, सुहेल व परवेज को पकड़ कर अपने साथ ले गए. इन लोगों ने उन्हें छोड़ने के एवज में सात लाख रुपए की मांग की.

बाद में पांच लाख रुपए में सौदा तय हुआ. इन लोगों ने दो लाख रुपए लेकर तीनों को छोड़ दिया और वे बकाया तीन लाख रुपए के लिए लगातार दबाव बना रहे थे.” डीसीपी ने बताया कि सोनू ने पूछताछ में बताया कि नितिन चौधरी ने उसे पैसे लेने के लिए भेजा था.

उन्होंने बताया कि कांस्टेबल नितिन चौधरी को भी गिरफ्तार कर लिया गया है. इस मामले में उपनिरीक्षक चेतन प्रकाश, कांस्टेबल सुमित पावला, कांस्टेबल सुमित शर्मा, कांस्टेबल अतुल नागर और कांस्टेबल सुमित मंडार फरार है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button